सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस मार्कंडेय काटजू की अक्ल ठिकाने आ गई लगती है. यह नेक और जरूरी काम सुप्रीम कोर्ट ही कर सकता था. हर बात पर कुछ भी ऊटपटांग बोलने और ट्वीट करने वाले काटजू ने यों ही शौकशौक में केरल के चर्चित सौम्या हत्याकांड पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर उंगली उठाई तो अदालत ने उन्हें तलब किया. काटजू खुशीखुशी अदालत तक पहुंच गए पर वहां अपने जूनियर्स के सख्त तेवर देख सकपका भी गए.

अदालत ने बेरहमी दिखाई और अवमानना की धौंस दी तो मार्कंडेय काटजू को सौरी कहने में ही अपनी भलाई लगी और दिसंबर के पहले हफ्ते में उन्होंने सौरी बोल भी दिया. अब उम्मीद लगाई जा रही है कि वे अपनी जबान पर लगाम कसे रहेंगे.