सरिता विशेष

कोयले की आग

पूछताछ पुलिसिया हो या किसी भी सरकारी एजेंसी की, अच्छी तो कतई नहीं होती और अगर  यह पुचकार से शुरू हो तो हर कोई समझ जाता है कि अब आगे क्याक्या होगा. कोयला घोटाले में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से उन के घर जा कर सीबीआई अधिकारियों ने कथित तौर पर पूछताछ नाम की रस्म निभाई तो तय है कि इस चर्चित घोटाले का अंत बड़ा विध्वंसक व नाटकीय होगा. आमतौर पर चुप रहने में भरोसा करने वाले सज्जन व्यक्ति मनमोहन सिंह भी समझ रहे हैं कि उन पर शिकंजा कसा जा रहा है, अब बात और हालात पहले जैसे नहीं रहे. उन की राजनीतिक अभिभावक सोनिया गांधी खुद दामाद के भूमिप्रेम को ले कर संकट में हैं. ऐसे में सीबीआई के कदमों का उन के घर पर पड़ना शुभ संकेत तो कतई नहीं, जिस के जिम्मेदार पूर्व कोयला सचिव पी के पारेख हैं जिन्होंने एक कायदे की बात यह कह दी थी कि जो भी था, आखिरी फैसला तो प्रधानमंत्री ने लिया था. अब तो छानबीन इस पर हो रही है कि पहला फैसला किस ने लिया था.

चिंता या चेतावनी

तकरीबन 5 दशक राजनीति कर चुके राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की चिंता वाजिब है कि अध्यादेशों के जरिए कानून बनाना ठीक नहीं है. बात एकतरफा या पूर्वाग्रही न लगे, इस बाबत उन्होंने सभी दलों की संयुक्त खिंचाई की. अध्यादेश कांग्रेस सरकार के जमाने में भी आते थे और खूब कानून भी उन के जरिए बने. भाजपा सरकार ने तो अभी यह खेल खेलना शुरू ही किया है. जैसे सरकारी दफ्तरों में बाबुओं और साहबों की टेबलों पर फाइलों का अंबार लगा रहता है वैसे ही संसद से राष्ट्रपति भवन तक अध्यादेशों का कागजी पहाड़ खड़ा रहता है. इन फाइलों की तरह अध्यादेश बताते हैं कि सरकार काम कर रही है. सभी ने प्रणब मुखर्जी की चिंता का स्वागत कर उसे खारिज कर दिया. अब अध्यादेश रहित संसद की कल्पना कोई कैसे करे.

फिर टोपी पुराण

बतौर केंद्रीय मंत्री नजमा हेपतुल्ला कतई खरी नहीं उतरी हैं पर बहैसियत एक मुसलिम चेहरा, वे जरूर भाजपा के काम की हैं. मंत्रिमंडल के पिछले फेरबदल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें यह सोचते बने रहने दिया कि जैसा है चलने दो, यह काम तो कभी भी किया जा सकता है. मोदी का शुक्रिया अदा करते नजमा ने लालू और नीतीश कुमार पर यह कहते निशाना साधने की नाकाम कोशिश की है कि ये लोग तो मुसलिम टोपी दिखावे के लिए पहनते हैं, उस की इज्जत नहीं करते. लेकिन लोगों का ध्यान बजाय इन दोनों के, मोदी की तरफ गया जिन्होंने कभी मुसलिम टोपी पहनने से इनकार कर बवाल खड़ा कर दिया था. इस बात के माने नजमा की निष्ठा ही नहीं बल्कि धर्म के नाम पर बेवजह बवाल मचाना है जिस की कोई तुक नहीं.

झूठा हीरो

डेरा सच्चा सौदा के मुखिया स्वयंभू भगवानों में से एक राम रहीम ने अपनी फिल्म ‘मैसेंजर औफ गौड’ के प्रदर्शन को ले कर खासा बवाल मचवा डाला. राम रहीम जो भी है बड़ा दिलचस्प आदमी है. जिन चमत्कारों का झांसा दे कर अरबों रुपया बनाया उन्हीं को कहानी में पिरो कर अब और ज्यादा कमाने का कमाल भी कर रहा है. इस युवा और ऐयाश बाबा ने जो देखा और भोगा उस की पोल खोल दी तो ऐसा लगा मानो चंबल का कोई डाकू आत्मसमर्पण करने की पेशकश कर रहा हो. इस पर दूसरे गिरोह स्वत: तिलमिलाए हुए हैं. भगवान और उस का दूत बनना हमेशा से ही मुनाफे का धंधा रहा है. इसे भुनाने के लिए राम रहीम ने कोई मौका और तरीका नहीं छोड़ा.