स्तंभ

दिन दहाड़े
By | 17 May 2017
मैं और मेरे पति अपने बच्चों के साथ इंदौर से अकलेश्वर ट्रेन द्वारा आ रहे थे. बीच में एक स्टेशन पर एक 50 वर्षीय बुजुर्ग, पायजामाकुरता पहने हुए और पेट पर 6 इंच चौड़ा कपड़ा बंधे हुए..