सरिता विशेष

उत्तर प्रदेश की सरकार द्वारा मीट पर लगे प्रतिबंध के बाद होटलों में शाकाहारी कबाब की मांग बढती जा रही है. ऐसे में वेज कबाब को लेकर प्रचार प्रसार भी तेज हो गया है. बेज कबाब के बनाने में सोया बड़ी का सबसे बड़ा योगदान होता है.

ऐसे में लखनऊ की मशहूर शेफ पंकज भदौरिया ने न्यूट्रीला कबाब फेस्टिवल का आयोजन अपने हजरतगंज स्थित पंकज भदौरिया कलनरी एकेडमी में किया. इसमें पंकज भदौरिया ने न्यूट्रीला से तैयार सोया बोटी कबाब, सोया शामी कबाब और सोया सीक कबाब को बना कर दिखाया.

शाकाहारी लोगों को सबसे अधिक प्रोटीन सोया के द्वारा ही मिलता है. ऐसे में वह अपने खाने में सोया को ज्यादा से ज्यादा मात्रा में शामिल कर शरीर को मजबूत कर सकते हैं.

पंकज भदौरिया जानी मानी शेफ हैं. वह कहती हैं सोया के द्वारा शरीर को सबसे अधिक प्रोटीन मिलता है. जब हम वेज कबाब की बात करते हैं तो सोया को उपयोग बेहद जरूरी हो जाता है. इसके जरीये हम वेज अवधी कबाब को तैयार कर लेते हैं. यह शरीर को मजबूती भी देने का काम करता है. सोया प्रोटीन को एनिमल प्रोटीन के विकल्प के तौर पर प्रयोग किया जाता है. सोया प्रोटीन सेचुरेटेड फैटस और कैलोस्ट्राल का भी विकल्प है. यह सबसे अच्छा शाकाहारी प्रोटीन होता है.

रूचि सोया के सीओओ सत्येन्द्र अग्रवाल ने कहा सोया को अलग अलग रूप में पेश करने का काम हमने किया है. जिससे किसी भी तरह के व्यंजन के रूप में इसका प्रयोग आसानी से किया जा सके और लोग इसका सेवन कर सके. लखनऊ कबाब के लिये मशहूर है. ऐसे में न्यूट्रीला सोया के प्रयोग यहा के कबाब बना कर दिखाये गये.

वेज कबाब का स्वाद ले रहे लोगों ने बताया कि कबाब के शौकीन लोग अब वेज कबाब को खा कर आनंद लेंगे. मीट को लेकर जिस तरह से बातें सामने आ रही है उससे तो यही लगता है कि मीट कबाब की जगह पर सोया से तैयार वेज कबाब का ही मजा लिया जा सके.