सरिता विशेष

भारत में भुजिया बनाने का काम राजस्थान के बीकानेर से शुरू हुआ. वहां जो नमकीन तैयार होता है, उस में भुजिया सब से ज्यादा बनती है. भारत के दूसरे शहरों में भुजिया की जगह बेसन से तैयार सेव ज्यादा बनाए जाते हैं, जो भुजिया से मोटे होते हैं. शुरुआत में भुजिया केवल बेसन से तैयार होती थी. इसे चटपटा बनाने के लिए बेसन के बड़े टुकड़े तल कर डाले जाते थे, जो पूरी तरह से मसालेदार होते थे. समय के साथ भुजिया बनाने में बदलाव हुआ. अब भुजिया बनाने के लिए बेसन के साथ आलू का इस्तेमाल भी होने लगा है. इस के बाद से?भुजिया का बाजार बढ़ने लगा है. आलू और बेसन से तैयार भुजिया खाने वालों को ज्यादा पसंद आने लगी. अब यह बाजार में बिकने के लिए पैकेटों में आने लगी है.

पूरे देश के नमकीन बनाने वालों को भुजिया बनाने का फायदेमंद काम पसंद आने लगा है. इस से  चने और आलू की खेती करने वालों को भी नया रास्ता दिख गया है. वे भी अब भुजिया बनाने लगे हैं. पूरे देश में भुजिया बनाने का काम गृहउद्योग की तरह फैल गया है.

चटपटे पकवानों की शौकीन लखनऊ की मनीषा त्रिपाठी कहती?हैं, ‘भुजिया खाने में दूसरे नमकीनों के मुकाबले काफी अच्छी होती है. सब से अच्छी बात यह है कि इसे बनाना सरल होता है. केवल मशीन से ही नहीं, हाथों से भी इसे बनाया जा सकता है. यह रोजगार का अच्छा जरीया हो सकती है.’

हमारे देश में आलू की अच्छी पैदावार होती है. आलू भुजिया की मांग बढ़ने के बाद से आलू के किसानों की फसल बरबाद नहीं होगी. उस के दाम कम नहीं होंगे और आलू किसानों को अच्छा मुनाफा मिलेगा. इस तरह फूड प्रसंस्करण होने से किसानों का मुनाफा बढ़ रहा है. फसलों से जुड़ी चीजों का इस्तेमाल इस तरह हो तो किसानों को ज्यादा मुनाफा मिलेगा.

आलू भुजिया और नमकीन सेव का स्वाद अलग और खास होता है. आलू भुजिया को कई तरह से बनाया जाता?है. इसे आलू और बेसन मिला कर या आलू, बेसन और मोंठ का आटा मिला कर या आलू, बेसन और चावल का आटा मिला कर बनाया जाता है. हर तरह से बनाई गई भुजिया का स्वाद अलग होता है, लेकिन बनाने का तरीका एक ही होता है. आप के पास जो भी सामग्री मौजूद हो उसी से आलू भुजिया बनाई जा सकती है. लेकिन बेसन मिली आलू भुजिया का स्वाद लाजवाब होता?है.

भुजिया बनाने की सामग्री

बेसन 200 ग्राम, आलू 400 ग्राम, नमक स्वादानुसार, हलदी पाउडर एक चौथाई छोटा चम्मच, हींग स्वादानुसार, गरम मसाला आधा छोटा चम्मच और तलने के लिए तेल.

बनाने की विधि

आलुओं को उबाल लें. उन्हें छील कर कद्दूकस कर लें. बेसन को किसी बरतन में छान कर निकाल लें. अब कद्दूकस किए हुए आलू बेसन में डाल लें. नमक, हींग, हलदी पाउडर और गरम मसाला डाल कर सारी चीजों को अच्छी तरह मिला लें और चिकना आटा जैसा गूंध कर तैयार कर लें. इसे 20 मिनट के लिए ढक कर रख दें ताकि ये फूल कर सेट हो जाए. सेव बनाने वाली मशीन पर बारीक जाली लगा दें. हाथ पर थोड़ा सा तेल लगाएं. अब गुंधी सामग्री का एक हिस्सा (जितना मशीन में?ठीक से आ सके) लंबे आकार की लोई बना कर मशीन में डालें और मशीन का ढक्कन बंद कर दें.

कढ़ाई में तेल डाल कर गरम करें. मीडियम गरम तेल के ऊपर मशीन को दबा कर निकले हुए सेव डालें. जितने सेव कढ़ाई में आसानी से तले जा सकें, उतने सेव ही तेल में डालें. जब सेव हलके सिक जाएं तो उन्हें पलट दें. सेवों को हलका भूरा होने तक तलें और किसी नैपकिन पेपर बिछी प्लेट में निकालें. बाकी सारी सामग्री को भी इसी तरह सेव की मशीन में भर कर गरम तेल में तल कर सेव बना लें.

आलू भुजिया सेव को अच्छी तरह से ठंडा होने दें और फिर किसी एयरटाइट डब्बे में भर कर रख लें. आप इसे 1 महीने से भी ज्यादा समय तक आराम से खा सकते?हैं. आप अपनी पसंद से आलू भुजिया सेव को कम या ज्यादा मसाले वाले बना सकते?हैं. आप चाहें तो इन्हें कम मसाले वाले बना लें ताकि बच्चे भी आसानी से खा सकें और जब आप का मन ज्यादा मसाले वाले सेव खाने का हो तो आप इन पर थोड़ा सा चाट मसाला डाल कर खाएं.