बाजार में बने रहना है तो कुछ अलग तो करना ही होता है. जियो ने सस्ती दरों पर सेवाएं क्या उपलब्ध करा दी, टेलीकौम कंपनियों में एकदूसरे से आगे निकलने की होड़ मच गई है. जाहिर है, इससे फायदा तो उपभोक्ताओं को हो रहा है, वहीं मोबाइल औपरैटर कंपनियां होड़ में बने रहने के लिए ग्राहकों को फायदा भी दे रही हैं.

बेहतर पहल

इसी कड़ी में देश की अग्रणी दूरसंचार सेवा प्रदाता वोडाफोनआइडिया ने महिलाओं की सुरक्षा पर आधारित सेवा ‘वोडाफोन सखी’ की शुरुआत की है. अब वोडाफोन के नंबर का इस्तेमाल करने वाली महिलाएं मुफ्त में इस सेवा का इस्तेमाल कर सकती हैं और इसे बाद में आइडिया के नंबरों पर भी सुलभ कराया जाएगा.

स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने इस सेवा की शुरुआत करते हुए ‘अब रुके क्यों’ अभियान का उद्घाटन किया. कंपनी की इस नई सेवा के बारे में वोडाफोनआइडिया लिमिटेड के ग्राहक कारोबार के निदेशक अवनीश खोसला ने मीडिया से बातचीत में कहा,”यह सेवा फीचर और स्मार्ट दोनों तरह के फोन पर बिलकुल मुफ्त उपलब्ध होगी. इस सेवा के तहत संकट के समय महिलाएं बगैर इंटरनेट और बैलेंस के भी 10 लोगों को अलर्ट भेज सकेंगी. अलर्ट के साथ महिला का लोकेशन भी मैसेज प्राप्त लोगों को मिल जाएगा.”

कंपनी द्वारा जारी नंबर

कंपनी ने इसके लिए एक नंबर 5500  जारी किया है. इस सेवा में महिलाएं फोन में पर्याप्त बैलेंस नहीं रहने पर भी 10 मिनट तक बात कर सकेंगी. खोसला ने मीडिया से बातचीत में कहा कि ‘सखी सेवा’ को अपनाने वाली महिलाओं को 10 अंकों का एक प्रौक्सी नंबर उपलब्ध कराया जाएगा, जिस के जरीए वे अपना फोन रिचार्ज करा सकेंगी. वोडाफोन का टोल फ्री नंबर 1800123100 पर फोन करके उपभोक्ता इस सेवा को चालू करा सकती हैं.

सरकारी कंपनियां क्या कर रही हैं

महिलाओं पर बढती घटनाओं को देखते हुए कंपनी इस सेवा के जरीए यह बताना चाहती है कि महिलाओं की सुरक्षा अहम है पर सवाल यह भी है कि पुलिस कितनी जल्दी मुसीबत में फंसी महिला को मदद के लिए पहुंचती है, जो खुद घटना के घंटों बाद पहुंचने के लिए बदनाम है.

अलबत्ता कंपनी की यह सुविधा मुसीबत में घिरी महिला को किसी तरह सहायता उपलब्ध करा देगी, यह एक बेहतर पहल तो है, पर क्या इससे सरकारी मोबाइल सेवा प्रदाता कंपनी को सीख लेने की जरूरत नहीं है जिसके ग्राहकों की संख्या दिनबदिन घटती चली जा रही है.

COMMENT