आजकल डेबिट और क्रेडिट कार्ड के जरिए हम लोगों की रोजमर्रा की आर्थिक जरुरतों को पूरा करना बेहद आसान हो गया है. बस कार्ड की डिटेल्स भरें और कोई भी ट्रांजेक्शन कर लें. लेकिन आपकी यही सहूलियत आपके लिए तब मुसीबत बन जाती है जब आपका कार्ड चोरी हो जाता है या खो जाता है. ऐसे समय में आप कुछ टिप्स की मदद से आप तुरंत अपने बैंक खाते के पैसे को सिक्योर कर सकते हैं.

एटीएम कार्ड खो जाए तो सबसे पहले आप अपने बैंक को इसकी जानकारी दें और क्रेडिट और डेबिट कार्ड को ब्लौक करा दें ताकि कोई भी इसका मिसयूज ना कर सके. इसके बाद बैंक में जाकर नए एटीएम कार्ड के पिन के लिए अप्लाई कर दें. एहतियात के तौर पर कार्ड खोने की एफआईआर भी दर्ज करा सकते हैं क्योंकि कई बैंक इसकी मांग कर लेते हैं. अगर आप नेट बैकिंग का इस्तेमाल करते हैं तो अपने अकाउंट का पासवर्ड भी बदल दें.

कार्ड ब्लौक कराने के बाद 2 तरीके से आप नए कार्ड मंगा सकते हैं.

– आपके बैंक में आपके रजिस्टर्ड एड्रेस पर बैंक 5-7 वर्किंग दिनों के अंदर आपको नया कार्ड और पिन भेज देगा.

– बैंक में जाकर आप खुद भी नया कार्ड ले सकते हैं. इसके लिए आपको एक आईडी प्रूफ और एक उसी बैंक का कैंसेल्ड चेक देना होगा और बैंक तुरंत आपको नया कार्ड इश्यू कर देगा.

पेमेंट ऐप्स पर कोई भी बैंकिंग ट्रांजेक्शन करते वक्त सेव डिटेल्स के औप्शन को अनचेक ही रखें. कई बार ऐसा होता है कि आपके कार्ड की डिटेल्स औनलाइन सेव हो जाते हैं जिसके जरिए आपके कार्ड का सिर्फ सीवीवी डालकर ट्रांजेक्शन पूरा किया जा सकता है. तो इस औप्शन को कभी भी टिक ना करें. थोड़ी सी सहूलियत के बदले आपके बैंक खाते के पूरे पैसे के साफ होने का रिस्क कतई ना लें.

अपने बैंकिंग एसएसएस अलर्ट को चालू रखें ताकि आपके कार्ड से होने वाले लेन-देन की जानकारी आपको मिलती रहे. ध्यान रखें कि आपके उस अकाउंट में किसी भी तरह का कोई क्रेडिट-डेबिट होने का मैसेज आपको मिलता है जो आपने ना किया हो तो तुरंत बैंक को इसकी जानकारी दें.

Tags:
COMMENT