देश में वस्तु एवं सेवा कर यानी जीएसटी एक जुलाई से लागू हो गया. 30 जून को आधी रात में संसद के केंद्रीय कक्ष में आयोजित समारोह में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस कर व्यवस्था की शुरुआत की. नई कर प्रणाली को समझने में अभी कारोबारियों को दिक्कत हो रही है और इस का नकारात्मक असर दिख रहा है लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि यह रुख ज्यादा देर तक नहीं चलेगा.

बौंबे स्टौक एक्सचेंज यानी बीएसई में इस का अच्छा रुख देखने को मिल रहा है. जुलाई के पहले सप्ताह में बाजार में तेजी रही और सूचकांक 439 अंक बढ़ कर 31,361.41 अंक पर बंद हुआ. नैशनल स्टौक एक्सचेंज भी 145 अंक चढ़ गया. इस से पहले सप्ताह यानी जून के आखिर में बाजार 4 दिन खुला और वैश्विक संकेतों के कारण 2 सत्रों में गिरावट पर रहा और सूचकांक 31 हजार अंक से नीचे चला गया. इन विपरीत स्थितियों के बावजूद बाजार जीएसटी के मद्देनजर तेज रफ्तार पकड़ सकता है.