बचत और निवेश के जरिये एक अच्छी जीवनशैली के लिए यह अति आवश्यक है कि अनुशासन पूर्ण तरीके से अपनी वित्तीय योजनाओं को क्रियान्यवन में लाया जाए. एक अच्छी जीवनशैली के लिए बचत और मुद्रास्फीति से अधिक रिटर्न वाली निवेशों के विकल्पों की जानकारी आवश्यक है. आपकी मासिक आय चाहे जो भी हो, एक फिक्स लक्ष्य और कम से कम 20 प्रतिशत बचत अपनी आमदनी में से जरुर करें और जितना अधिक आप बचा सकते हैं उतना ही बेहतर होगा.

फाइनेंशल प्लानिग के नियम जो धन संचय के लिए जरुरी हैः

  • किसी भी संकट की घड़ी के लिए आप अपनी कमाई के कम से कम छह महीने कि राशि को कैश यानि नकदी के रुप में रखें.
  • किसी भी संकट की स्थिति के खिलाफ सुरक्षा के रूप में एक उपयुक्त अवधि बीमा और स्वास्थ्य बीमा पालिसी खरीदें.
  • अपने दीर्घकालिक और अल्पकालिक वित्तीय लक्ष्यों की सूची बनाएं और उन लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए शुरुआती बचत शुरू करें.
  • जितनी जल्दी हो सके अपनी सेवानिवृत्ति की योजना बनाएं और सेवानिवृत्ति के लिए मासिक बचत को अलग करें.

लम्बी अवधि तक नियमित निवेश करने से व्यक्ति अपनी नेट वर्थ को बढ़ा सकता है. इसके दो फायदे होते है, सबसे बड़ा फायदा चक्रवृद्धि ब्याज की वजह से मिलता है. नियमित निवेश से आपकी निवेश राशि का एवरेज कास्ट भी कम होता है. निवेश के लिए एक विविध पोर्टफोलियो बनाना चाहिए जिसमें सभी प्रकार के निवेश के विकल्प जैसे-  इक्विटी, डैट, सोना और रियल एस्टेट जैसी सभी संपत्ति वर्ग पर्याप्त रूप से आवंटित किए जाने चाहिए.

बचत के कुछ हिस्से को टैक्स सेविंग विकल्प जैसे – पोस्ट औफिस डिपाजिट, पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) आदि में निवेश करना जरुरी है. निवेश पोर्टफोलियो का यह हिस्सा सुरक्षा उद्देश्यों के लिए है न कि अधिक रिटर्न के लिए. ऐतिहासिक रूप से, इक्विटी एकमात्र विकल्प जिसने मुद्रास्फीति से कही ज्यादा रिटर्न निवेशकों को प्रदान किये है. इसलिए इक्विटी एक्सपोजर जरूरी है, इस एक्सपोजर को शेयर बाजारों में प्रत्यक्ष भागीदारी या म्यूचुअल फंड के माध्यम से हासिल किया जा सकता है.

युवा अवस्था में इक्विटी निवेश का अनुपात पोर्टफोलियो में  अधिक होना चाहिए, क्योंकि उस उम्र में जोखिम सहनशीलता अधिक है. जैसे-जैसे व्यक्ति की आयु बढ़ती है ये अनुपात कम होता जाना चाहिए और पोर्टफोलियो को तब सुरक्षित निवेश विकल्पों में स्थानांतरित किया जाना चाहिए.

अंततः बचत और नियमित निवेश ही धन संचय की कुंजी है. बचत करने की आदत और बचत को सही जगह निवेश करने से ही व्यक्ति अमीर बन सकता है. निवेश के विकल्पों के बारे में जानकारी और मुद्रास्फीति से अधिक रिटर्न प्रदान करने वाली स्कीमों का चयन अगर सही हो तो व्यक्ति रिटायरमेंट तक एक अच्छी रकम जोड़ सकता है.