सरिता विशेष

सरकार सस्ती दर पर नागरिकों को हवाईसेवा उपलब्ध कराने के लिए देश के सभी बेकार पड़े हवाईअड्डों की मरम्मत करने में जुटी है. नागरिक उड्डयन मंत्री अशोक गणपति राजू का कहना है कि अप्रैल तक 33 क्षेत्रीय हवाईअड्डों को विमानसेवा के लिए तैयार किया जा चुका है. सरकार की इस महत्त्वाकांक्षी योजना से देश के छोटे शहरों के लोगों को भी सस्ती दर पर हवाईसेवा का लुत्फ उठाने का अवसर मिलेगा. यह मौका उन्हीं यात्रियों के लिए होगा जो यात्रा के दौरान चालकदल के सदस्यों के साथ अच्छा बरताव करेंगे. अभद्र व्यवहार करने वाले यात्रियों पर हवाईसेवा के लिए 3 माह से 2 साल तक के लिए प्रतिबंध लगाया जा सकता है. यात्रियों को विमानयात्रा के दौरान किस तरह का व्यवहार करने से बचना है, नागरिक विमानन मंत्रालय ने इस के लिए एक सूची तैयार की है. सूची में 3 तरह के व्यवहार का उल्लेख है जिन का उल्लंघन करने पर 3, 6 महीने तथा 2 साल तक के लिए विमानसेवा के इस्तेमाल पर रोक लगाई जा सकती है.

सरकार ने यह कदम हाल में शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ द्वारा एअर इंडिया के विमान में अभद्र व्यवहार किए जाने के कारण उठाया है.

सरकार को यात्रियों से अच्छे व्यवहार की उम्मीद जरूर करनी चाहिए क्योंकि विमानन सेवा का देश में तेजी से प्रसार हो रहा है. लेकिन विमानन कंपनी की तरफ से जो अभद्र व्यवहार किया जाए, इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया गया है. इस के अलावा कई मामलों में किसी यात्री के साथ व्यक्तिगत रंजिश या जानबूझ कर इन श्रेणियों में शामिल किया जा सकता है. नियम बनाते समय इस पर भी सरकार की तरफ से कोई ध्यान नहीं दिया गया है.

वहीं, विमान सेवाएं समय पर सेवा नहीं दे पाती हैं तो इस स्थिति में यात्रियों के साथ किए जाने वाले व्यवहार पर भी ध्यान दिया जाना चाहिए. सरकार नियम बनाए लेकिन उन को संतुलित बनाने पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है.