सरिता विशेष

ब्रैंडेड सामान की खरीद के लिए बड़े मौल या अच्छे शोरूम में जाने का समय नहीं है, तो लोग औनलाइन सेवाप्रदाता कंपनियों की सेवा ले कर अपनी यह जरूरत भी पूरी कर लेते हैं. महानगरों में यह सेवा लोगों के पास समय की कमी के कारण अत्यंत लोकप्रिय है. नतीजतन, औनलाइन बाजार के खिलाड़ी अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं.

स्नैपडील, फ्लिपकार्ट तथा अमेजौन जैसी न जाने कितनी बड़ी कंपनियां इस कारोबार में लगी हैं. इस से बाजार में जबरदस्त प्रतिस्पर्धा आई है. इसी प्रतिस्पर्धा के लिए फ्लिपकार्ट ने 1 साल में अपना कारोबार सौ फीसदी बढ़ाने के लिए फ्रिज जैसे बड़े सामान की औनलाइन डिलीवरी करने की योजना बनाई है. इस के तहत सैमसंग के साथ समझौता किया गया है और ग्राहक को टीवी, फ्रिज, कूलर आदि औनलाइन उपलब्ध कराया जाएगा.

ग्राहक को पसंद का सामान औनलाइन बुक कराना है, कंपनी यह सामान उस के घर पर पहुंचा देगी. फ्लिपकार्ट को टक्कर देने और अपना कारोबार 1 साल में 30 फीसदी तक बढ़ाने के लिए औनलाइन सेवा देने वाली दूसरी कंपनी अमेजौन अपने वेयरहाउस जैसे साधन स्थापित करने की दिशा में कदम बढ़ा रही है. इस से बाजार में भारी स्पर्धा आएगी. ग्राहक को जरूर उस का फायदा मिलेगा. लेकिन गलीमहल्लों के कारोबार पर इस का नकारात्मक असर भी पड़ेगा.

बड़ी कंपनियों की एजेंसी ले कर गलीमहल्ले में खुली दुकानों की तुलना में औनलाइन मिलने वाला फ्रिज निश्चितरूप से सस्ता होगा और ग्राहक को सुरक्षित घर पर मिलेगा तो स्थानीय डीलर के पास जाना कोई पसंद नहीं करेगा. औनलाइन बाजार अब महानगरों और बड़े शहरों से आगे निकल कर जिला मुख्यालयों तक पहुंच गया है. जो जिला मुख्यालय यातायात के अच्छे नैटवर्क से जुड़े हैं, वहां यह सेवा तेजी से फैल रही है. शायद वह समय भी दूर नहीं होगा जब दोपहिया वाहन भी कागजी कार्यवाही के साथ उपभोक्ता को घर पर ही मिलें.