सरिता विशेष

हर व्यक्ति को अपनी वित्तीय सुरक्षा के लिए 3-6 महीने के खर्च के पैसे जमा कर रखना बेहद ही जरूरी है, क्योंकि विपत्ती कभी बोल कर नहीं आती. सोचिये जरा, अगर अचानक किसी वजह से आपकी नौकरी चली जाती है और आमदनी रुक जाती है तो क्या होगा? जब तक आपको दूसरी नौकरी नहीं मिल जाती तब तक आपके आगे का खर्चा कैसे चलेगा? तो इसलिए जरूरी है कि कुछ फंड को अपने भविष्य के लिए बचा कर रखा जाए, जिससे इस फंड का उचित उपयोग कर आने वाली मुश्किल दौर से कुछ आसानी से निकला जा सके.

बिजनस में नुकसान होने या बीमारी की वजह से लंबी छुट्टी की वजह से भी टेंपरेरी इनकम लौस हो सकती है. इस फंड से मेडिकल खर्च जो इंश्योरेंस में कवर नहीं होते, उन्हें भी पूरा किया जा सकता है. अब इस मामले में सबसे बड़ा सवाल यही है कि इमरजेंसी फंड का पैसा कहां लगाना चाहिए.

Video Feature : फोर्ड के साथ लीजिए कुंभलगढ़ यात्रा का मजा

बचत खाते के ब्याज पर टैक्स संबंधी फायदे

इनका इस्तेमाल भी इमरजेंसी फंड बनाने के लिए किया जा सकता है. बचत खाते से 10,000 रुपये का ब्याज टैक्स फ्री है. इसलिए अगर आप इसमें 2.85 लाख रुपये रखते हैं और उस पर 3.5 पर्सेंट का ब्याज मिलता है तो ऐसे वक्त पर आपको टैक्स की चिंता करने की आवश्यकता नहीं होती.

फिक्स्ड डिपाजिट

अधिकतर बैंक फिक्स्ड डिपाजिट तोड़ने पर भारी पेनाल्टी नहीं लगाते, इसलिए इमरजेंसी फंड का कुछ पैसा इसमें भी रखा जा सकता है. हालांकि, बैंक एफडी पर तुलनात्मक तौर पर अभी कम ब्याज मिल रहा है. फिक्स्ड डिपाजिट शुरू करने का एक तरीका आपके सेविंग्स एकाउंट से लिंक्ड स्वीप-इन फैसिलिटी है. हालांकि, यह याद रखिए कि फिक्स्ड डिपाजिट से मिलने वाले ब्याज पर टैक्स चुकाना पड़ता है. यह लिक्विड फंड के शार्ट टर्म कैपिटल गेन की तरह होता है.

लिक्विड फंड्स

इमरजेंसी फंड बनाने के लिए लिक्विड फंड अच्छे होते हैं. जहां आम बचत खाते पर 4 पर्सेंट का रिटर्न मिलता है, वहीं इनसे पहले 8 पर्सेंट का रिटर्न मिल रहा था. हालांकि, अब हालात बदल गए हैं. कैटेगरी लेवल पर लिक्विड फंड्स का एक साल का रिटर्न 6.5 पर्सेंट रहा है. इसमें और कमी आने का अंदेशा है. फिलहाल इससे 6 पर्सेंट का रिटर्न मिलने की उम्मीद की जानी चाहिए.

लिक्विड फंड पर टैक्स आपको होल्डिंग पीरियड से तय होता है. अगर होल्डिंग पीरियड तीन साल से अधिक का है तो लिक्विड फंड में निवेश टैक्स के लिहाज से फायदेमंद होगा. तब आपको टैक्स कटने के बाद करीब 5.59 पर्सेंट का रिटर्न मिलेगा, जो बचत खाते पर मिल रहे ब्याज से अधिक है. हालांकि, अगर आपको तीन साल से पहले लिक्विड फंड से पैसा निकालना पड़ता है तो सबसे ऊंचे स्लैब में आने वालों का टैक्स के बाद का रिटर्न घटकर 4.15 पर्सेंट रह जाएगा.

बैंकबाजार के सीईओ आदिल शेट्टी ने बताया, ‘अगर आप लिक्विड फंड की यूनिट्स को भुनाते हैं तो अगली सुबह 10 बजे आपको पैसा मिल जाता है.’ कई लिक्विड फंड्स मोबाइल ऐप बेस्ड इंस्टैंट लिक्विडिटी फैसिलिटी भी आफर कर रहे हैं, जहां रिडेम्पशन के तुरंत बाद पैसा आपके बैंक अकाउंट में आ जाता है. जोशी ने बताया कि इसमें आप प्रति फोलियो 50,000 रुपये ही एक दिन में रिडीम कर सकते हैं. इस मामले में बेहतर लिक्विडिटी के लिए आपके पास एक से अधिक फोलियो होने चाहिए.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं