आरबीआई द्वारा कई नए नोट जारी करने के बाद अब जल्द ही 100 रुपये का सिक्का लाने की तैयारी चल रही है. वित्त मंत्रालय ने 100 और 5 रुपये के नए सिक्के जारी करने के लिए एक नोटिफिकेशन जारी किया है. तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और दक्षिण भारत के सुपरस्टार रहे डा. एमजी रामचंद्रन की जन्म शताब्दी के उपलक्ष्य में इसे जारी किया जाएगा.

सिक्के पर एमजी रामचंद्रन की आकृति होगी और इसके नीचे ‘DR M G Ramachandran Birth Centenary’ लिखा होगा. ऊपरी हिस्से में यह देवनागरी लिपी में लिखा होगा. सिक्के के अगल हिस्से पर बीच में अशोक स्तंभ की आकृति होगी और ‘सत्यमेव जयते’ अंकित होगा.

100 रुपये के सिक्के का वजन 35 ग्राम और 5 रुपये के सिक्के का वजन 6 ग्राम होगा. 100 रुपये का सिक्का चांदी (50 फीसदी), कापर (40 फीसदी), निकेल और जिंक (5-5 फीसदी) से मिलकर बना होगा. वहीं, 5 रुपये के सिक्के में कापर (75 फीसदी), जिंक (20 फीसदी) और निकेल (5 फीसदी) का मिश्रण होगा

अभी 1, 2, 5 और 10 रुपये के सिक्के चलन में हैं. हाल ही में 200 रुपये के नोट भी जारी किए गए हैं. इसके अलावा 50, 500, 2000 रुपये सहित कई नोट बाजार में आ चुके हैं.

कौन हैं भारत रत्न एमजी रामचंद्रन

एमजी रामचंद्रन 1977 से 1987 के बीच तमिलनाडु के तीन बार मुख्यमंत्री रहे. राजनीति में आने से पहले वह दक्षिण भारतीय फिल्मों के बड़े अभिनेता और फिल्म निर्माता थे. 17 जनवरी 1917 को श्रीलंका के कैंडी में जन्मे रामचंद्रन ने ही 1972 में एआईडीएमके की स्थापना की. वर्ष 1988 में उन्हें मरणोपरांत देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से नवाजा गया. रामचंद्रन ही पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता को भी राजनीति में लेकर आए थे.

कब कब जारी हुए सिक्के

काले धन से निपटने के लिए बड़ी राशि के नोटों की जगह सिक्के जारी करने की सिफारिश होती रही है. पिछले साल महाराणा प्रताप की 476वीं जयंती पर भी 100 रुपये का सिक्का जारी किया गया था. इससे पहले 2010, 2011, 2012, 2014 और 2015 में भी 100 रुपये के सिक्के जारी किए जा चुके हैं.

आपने प्रचलन में देश में सबसे बड़ा कितनी राशि का सिक्का देखा है, 10 रुपये का न. लेकिन आपको जानकर आश्चर्य होगा कि भारत में 1000 रुपये का भी सिक्का जारी हो चुका है. सरकार ने 2010 में तमिलनाडु के बेहद मशहूर एवं अति प्राचीन बृहदीश्वरा मंदिर के निर्माण के 1000 साल पूरे होने पर यह सिक्का जारी किया था.

सरकार ने 2010, 2011, 2012 और 2013 में 150 के सिक्के भी जारी किए थे. 150 रुपये के ये सिक्के 2011 में रवींद्रनाथ टैगोर की 150वीं जयंती और कैग की स्थापना के 150 वर्ष पूरे होने के अवसर पर, 2012 में मोतीलाल नेहरू और मदन मोहन मालवीय की 150वीं जयंती पर तथा 2013 में स्वामी विवेकानंद की 150वीं जयंती पर जारी किए गए थे.

2014 जवाहरलाल नेहरू की और 2015 में सर्वपल्ली राधाकृष्णन की 125वीं जयंती पर सरकार ने 125 रुपये के सिक्के जारी किए थे.

भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना के प्लेटिनम जुबिली वर्ष को सेलेब्रेट करने के लिए 2010 में 75 रुपये के सिक्के जारी किए गए थे.

देश में सिक्के ढालने वाली कोलकाता स्थित टकसाल की स्थापना के 60 वर्ष पूरे होने के अवसर पर 2012 में 60 रुपये के सिक्के जारी किए गए थे. 2014 में भी कोयर बोर्ड की स्थापना का डायमंड जुबिली वर्ष मनाने के लिए 60 रुपये का सिक्का जारी किया गया था.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं