सरिता विशेष

डौलर के मुकाबले रुपया लगातार कमजोर हो रहा है. गुरुवार को भी रुपए में भारी गिरावट देखने को मिली. रुपया 28 पैसे की कमजोरी के साथ खुला. इस बड़ी गिरावट के साथ रुपए 69 के स्तर के बेहद करीब पहुंच गया है. यह इतिहास का सबसे निचला स्तर है. जानकारों की मानें तो रुपए में गिरावट जारी रह सकती है. लेकिन, अगर रुपया कमजोर होगा तो सिर्फ देश को ही नुकसान नहीं होता है बल्कि, आम आदमी पर रुपये की कमजोरी का बड़ा असर होता है. आइये जानते हैं अगर रुपया होगा कमजोर तो आप पर क्या फर्क पड़ेगा.

रुपये की कमजोरी से आपको होते हैं ये 4 बड़े नुकसान

महंगाई बढ़ने का खतरा

रुपया के सामने डौलर मजबूत होने से कच्चे तेल के दाम बढ़ जाएंगे. ऐसे में सीधे तो पर पेट्रोल-डीजल के दाम पर असर होगा. पिछले कुछ दिनों में क्रूड के सस्ता होने से पेट्रोल-डीजल के दाम में कटौती देखने को मिली थी. इसके अलावा जो देश कच्चे तेल का इंपोर्ट करते हैं, उन्हें ज्यादा रुपए खर्च करने पड़ेंगे. भारत के लिए ज्यादा खतरा इसलिए है क्योंकि, क्रूड के महंगा होने से सीधे तौर पर महंगाई बढ़ सकती है.

बढ़ेगा इंपोर्ट बिल

रुपया कमजोर होने की स्थिति में भारत जहां भी डौलर के मुकाबले पेमेंट करता है, वह महंगा हो जाएगा. सीधे तौर पर समझें को भारत का इंपोर्ट बिल बढ़ जाएगा. इसका सीधा असर भी उपभोक्ताओं पर पड़ता है.

business

विदेश में पढ़ाई होगी महंगी

अगर आपका बच्चा विदेश में पढ़ाई कर रहा है तो इससे उसकी पढ़ाई भी महंगी हो जाएगी. पहले के मुकाबले ज्यादा फीस, हौस्टल बिल्स और करेंसी कन्वर्ट के भी ज्यादा पैसे चुकाने होंगे.

विदेश घूमना महंगा होगा

रुपये की कमजोरी से विदेश यात्रा महंगी हो जाएगी. ज्यादातर देशों में डौलर में भुगतान होता है. करेंसी कन्वर्ट कराने के लिए भी आपको डौलर के मुकाबले ज्यादा भारतीय रुपये खर्च करने होंगे.

आम आदमी पर ये भी होगा असर

– रुपये के कमजोर होने से घरेलू बाजार में खाद्य तेलों और दालों की कीमतें बढ़ सकती हैं.

– रुपये में गिरावट से पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स का आयात महंगा हो जाएगा.

– डीजल के दाम बढ़ने से माल ढुलाई बढ़ जाएगी, जिसके चलते महंगाई में तेजी आ सकती है.

– भारत अपनी जरूरत का करीब 80 फीसदी पेट्रोलियम प्रोडक्‍ट आयात करता है.

– इसके अलावा, भारत बड़े पैमाने पर खाद्य तेलों और दालों का भी आयात करता है.

– तेल कंपनियां पेट्रोल-डीजल की घरेलू कीमतों में बढ़ोतरी कर सकती हैं.