उड़ने वाली टैक्सियों के बारे में आपने काफी सुना होगा. लेकिन सब कुछ सही रहा तो यह अब हकीकत में बदल सकता है और आप जल्द ही फ्लाइंग टैक्सी में सफर कर सकेंगे. इसके लिए ऐप से टैक्सी बुक करने की सुविधा देने वाली कंपनी उबर (UBER) ने उड़ने में सक्षम टैक्सियों के विकास की संभावनाएं तलाशने के लिए अमेरिका के प्रमुख अंतरिक्ष संगठन नासा (NASA) से हाथ मिलाया है. उड़ने वाली टैक्सियों का किराया भी सामान्य टैक्सी यात्रा के बराबर ही रखा जाएगा. यानी आप इस टैक्सी की सेवा लेंगे तो आपको किसी प्रकार का अतिरिक्त चार्ज नहीं देना होगा.

उबर का नासा से करार

उबर ने स्पेस एक्ट के तहत नासा के साथ दूसरा करार किया है. इसमें दोनों अर्बन एयर मोबिलिटी सर्विस देने के लिए मौडल तैयार करेंगे. उबर इस मामल में सरकारी रेगुलेटर्स के साथ भी काम कर रही है. उसे उम्मीद है जल्द ही उड़ने वाली टैक्सी प्रोजेक्ट को पंख लगेंगे.

उबर ने किया ऐलान

उबर की तरफ से घोषणा की गई कि उसकी पहले घोषित की गई ‘उबर एयर’ (uber air) पायलट योजना में लौस एंजिलिस भी भागीदार होगा. इससे पहले डलास फोर्ट-वर्थ, टेक्सास और दुबई भी इसमें शामिल हो चुके हैं. उबर ने एक बयान में कहा कि नासा की यूटीएम (मानवरहित यातायात प्रबंधन) परियोजना में उबर की भागीदारी कंपनी के 2020 तक अमेरिका के कुछ शहरों में उबर एयर की विमान सेवा प्रयोगिक तौर पर शुरू करने के लक्ष्य को पाने में मदद करेगी.

business

एयर मोबिलिटी का दूसरा करार

उबर ने पिछले साल नवंबर में नासा के साथ पहला स्पेस एक्ट किया था. इसके बाद यह दूसरा एग्रीमेंट है जिसमें ज्यादा संभावनाएं नजर आ रही हैं. करार के तहत नासा पैसेंजर एयरक्राफ्ट का डाटा उबर से लेगी. एयर ट्रैफिक को देखते हुए सर्विस स्लौट तैयार किए जाएंगे. इससे 100 से ज्यादा एयरक्राफ्ट रोजाना चलाए जा सकेंगे.

क्या कहता है नासा

नासा के एरोनौटिक्स रिसर्च मिशन डायरेक्टोरेट के एसोसिएट एडमिनिस्ट्रेटर जयवान शिन के मुताबिक, नासा इस करार को लेकर बहुत उत्साहित है. अर्बन एयर मोबिलिटी को लेकर जो भी रिसर्च, डेवलपमेंट और टेस्टिंग से जुड़े चैलेंजे होंगे उन पर काम किया जा रहा है. अर्बन एयर मोबिलिटी से एक नया रेवोल्यूशन आएगा. लोगों के लाइफस्टाइल में भी बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा, जैसा कि स्मार्टफोन के वक्त देखने को मिला था.

दूसरी सेवाओं पर भी नजर

आपको बता दें कि उबर नासा के साथ अन्य तरह की संभावनाओं को भी तलाश रहा है. शहरी हवाई यातायात के नए बाजार को लेकर उसका खुला रुख है. इससे पहले एयर टिकट बुक करने के साथ एयरपोर्ट स्थित किओस्क से कैब बुक कराने की सर्विस भी शुरू की गई थी. इसके लिए भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) ने ओला, उबर जैसी कैब एग्रिगेटरों के साथ समझौता किया था.

VIDEO : पीकौक फेदर नेल आर्ट

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.

Tags: