नए साल में नई चीजों के लिए पैन नंबर अब अनिवार्य हो चुका है. लेनदेन में पारदर्शिता लाने और टैक्स चोरी रोकने के लिए सरकार पैन कार्ड को एक हथियार के रूप में इस्तेमाल कर रही है. पहले कुछ ही जगहों पर पैन कार्ड का इस्तेमाल होता था, लेकिन अब लगातार इसका इस्तेमाल बढ़ रहा है. सरकार ने इससे जुड़े कुछ नि‍यमों में कई संशोधन कि‍ए हैं, जि‍नकी बदौलत अब कई तरह के लेनदेन में पैन नंबर देना अनिवार्य हो गया है. इसकी वजह से अब आपको पैन की डिटेल्स साथ रखनी होगी. अगर आपके पास पैन कार्ड नहीं है तो आप महज 110 रुपए इसे बनवा सकते हैं. इसके लि‍ए आप औनलाइन अप्‍लाई कर सकते हैं. आइये जानते हैं किन कामों के लिए जरूरी है पैन नंबर.

इन 10 कामों के लिए जरूरी होगा पैन नंबर

  • बैंक अकाउंट खोलना या FD के लिए जरूरी.
  • एक दि‍न में 50 हजार या उससे ऊपर कैश जमा करने के लिए जरूरी.
  • प्रौपर्टी खरीदने के लिए जरूरी.
  • गाड़ी खरीदने के लिए जरूरी.
  • वि‍देश यात्रा के लि‍ए फ्लाइट टिकट बुक करने के लिए जरूरी.
  • होटल बि‍ल की पमेंट के लिए जरूरी.
  • शेयर, बौन्‍ड, म्‍युचुअल फंड या डिबेंचर खरीदने के लिए जरूरी.
  • क्रेडि‍ट, डेबिट कार्ड या डीमैट एकाउंट के लि‍ए अप्‍लाई करने के लिए जरूरी.
  • किसी भी तरह की कमाई के लिए, नहीं तो 20 परसेंट टीडीएस कटेगा.
  • प्री-पेड मनी वौलेट या गिफ्ट कार्ड से 50 हजार या उससे ऊपर की ट्रांजैक्‍शन के लिए जरूरी.

business

औनलाइन बनवाएं पैन कार्ड

  • औनलाइन अप्लाई करने के लिए आप NSDL के पोर्टल tin-nsdl.com पर जाकर सर्विसेज पर जाएं.
  • इस लिंक पर क्लिक करें.
  • यहां आप अपनी बेसिक जानकारी नाम, मोबाइल, ईमेल आईडी भरें.
  • अपने डौक्युमेंट स्कैन करके अपलोड करें.
  • फीस औनलाइन ही जमा कराएं.
  • बस आपका पैन कार्ड बनकर तैयार हो जाएगा.

ऐसे भी बनवा सकते हैं पैन कार्ड

  • incometaxindia.gov.in पर जाएं.
  • PAN औप्शन में जाकर अप्लाई औनलाइन पर क्लिक करें.
  • NSDL या UTIITSL के जरिए फौर्म भरकर जमा कर सकते हैं.
  • इसकी फीस 96 रुपए है.
  • क्रेडिट कार्ड/डेबिट कार्ड या नेट बैंकिंग के जरिए यह पेमेंट करें.
  • पेमेंट होने के बाद और आवेदन जमा हो जाने के बाद एकनौलिजमेंट फौर्म का प्रिंटआउट लेकर उस पर अपना फोटो लगाएं और साइन करें.
  • जरूरी दस्तावेज लगाकर आपको कूरियर या स्पीड पोस्ट से NSDL/UTIITSL को भेजना होगा.
  • दस्तावेज औनलाइन अप्लाई करने के 15 दिनों के भीतर पहुंच जाने चाहिए.
Tags: