शेयर बाजार में नवंबर के दूसरे पखवाड़े में उथलपुथल का माहौल रहा. दूसरे पखवाड़े की शुरुआत में बिकवाली के कारण बाजार में गिरावट का माहौल रहा. इस के अगले सप्ताह बाजार में हलकी तेजी देखी गई. कमजोर आर्थिक आंकड़ों ने बाजार में सुस्ती का माहौल पैदा किया लेकिन इसी दौरान अंतर्राष्ट्रीय रेटिंग एजेंसी मूडीज ने देश की अर्थव्यवस्था को ले कर सकारात्मक आंकड़े पेश किए जिस के कारण बाजार की सुस्ती धीमी पड़ी और सूचकांक में 28 प्रतिशत की मामूली साप्ताहिक बढ़त रही.

मूडीज और विश्व बैंक की रिपोर्ट ने बीएसई में निवेशकों का उत्साह बढ़ाया. इसी बीच सरकार ने अर्थव्यवस्था में सुधार लाने तथा निजी छोटी कंपनियों के बैंकों के ऋण को डकारने की दीवालिया होने की पुरानी रणनीति पर नकेल कसने के लिए संसद में शोधन अक्षमता तथा दीवालियापन (अनसौल्वैंसी ऐंड बैंकरप्सी) विधेयक लाने की घोषणा की. जिस का निवेशकों पर अच्छा असर दिखा और 24 नवंबर को समाप्त सप्ताह के दौरान बाजार में 337 अंक की साप्ताहिक बढ़त मिली. बीएसई का सूचकांक 33,679 तथा नैशनल स्टौक एक्सचेंज का निफ्टी इस दौरान 10,369 अंक पर पहुंच गया. अच्छे आर्थिक आंकड़ों से निवेशकों में उत्साह है और इस के जारी रहने की उम्मीद है.