औनलाइन खरीद नई बाजार व्यवस्था है और इस में कारोबार करने वाली स्नैपडील, अमेजौन इंडिया, फ्लिपकार्ट, बिगबास्केट, ग्रोफर्स जैसी कई बड़ी कंपनियां करोड़ों का कारोबार कर रही हैं. औनलाइन खरीदारी बड़े शहरों में धूम मचा रही है और मौल आदि के कारोबार को उस ने खासा प्रभावित किया है. यह प्रचलन अब छोटे शहरों और कसबों तक बढ़ गया है. वहां भी खरीदार स्थानीय कारोबारियों की जगह औनलाइन खरीद को प्राथमिकता देने लगे हैं.

इस की बड़ी वजह यह है कि लोगों को घर बैठे ब्रैंडेड और अच्छा सामान मिल रहा है. कंपनियों के बीच प्रतिस्पर्धा जबरदस्त है, इसलिए कीमत भी कम देनी पड़ रही है.

करोड़ों का कारोबार कर रही इन कंपनियों के लिए अब तक कोई नियम नहीं था, इसलिए ग्राहक लुटते भी रहे हैं. लेकिन, अब सरकार ने इन कंपनियों के लिए नियम लागू कर दिए हैं. इन कंपनियों से खरीदे जाने वाले सामान पर अब एमआरपी, सामान बनाने की तारीख, एक्सपायरी डेट, सामान की मात्रा, मेड इन, कस्टमर केयर नंबर आदि सबकुछ पढ़े जाने वाले अक्षरों में लिखा होगा.

कस्टमर केयर का नंबर होना ग्राहकों के लिए सब से बड़ा फायदा साबित होगा. अभी तक ग्राहक को सामान मिल जाता था लेकिन उस में की गई गड़बड़ी की शिकायत के लिए उसे दरदर भटकना पड़ता था. इन नियमों से उम्मीद की जा सकती है कि औनलाइन कंपनियों की मनमानी पर लगाम कसेगी.

VIDEO : सर्दी के मौसम में ऐसे बनाएं जायकेदार पनीर तवा मसाला…नीचे देखिए ये वीडियो

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.