सरिता विशेष

फिल्म ‘सिंह साहब द ग्रेट’ से कैरियर की शुरुआत करने वाली खूबसूरत अभिनेत्री उर्वशी रौतेला, उत्तराखंड के हरिद्वार की हैं. स्कूल के दिनों से मौडलिंग की शुरुआत करने वाली उर्वशी ने साल 2015 को ‘मिस दिवा’ का खिताब जीता और ‘मिस इंडिया यूनिवर्स 2015’ का प्रतिनिधित्व भी किया. हिंदी के अलावा उसने कन्नड़ और बंगाली फिल्मों में भी काम किया है. फिल्म ‘हेट स्टोरी 4’ में उर्वशी मुख्य भूमिका निभा रही हैं. जिसे लेकर वह बहुत खुश हैं. उनसे मिलकर बात करना रोचक था. पेश है अंश.

bollywood

इस फिल्म को करने की खास वजह क्या है?

ये एक अलग खास रोमांटिक थ्रिलर फिल्म है. कहने को तो ये हेट स्टोरी है, पर इस श्रृंखला को सबसे अधिक प्यार मिला है. ये मेरे कैरियर की पहली महिला प्रधान फिल्म है. मैं खुश होने के साथ – साथ नर्वस भी हूं, क्योंकि बाकी फिल्मों के साथ इसकी तुलना की जाएगी. उसका मुझे डर है. इसके अलावा इससे पहले की फिल्मों में मैंने सेकेण्ड लीड की भूमिका की थी, जिसमें कामयाबी या असफलता दोनों बट जाया करती थी. इसमें सब मुझे ही सहना पड़ेगा.

फिल्म में ‘हील्स कोरियोग्राफी’ है, जिसे आपने किया है, कैसे और कहां से सीखा?

मैंने डांस के 11 फौर्म सीखे है. मसलन भरतनाट्यम, जैज, बेले, बौलीवुड डांस आदि. इससे मुझे किसी भी प्रकार के डांस को सीखने में मेहनत नहीं लगती. इसके अलावा मैंने इस फिल्म में एक सुपर मौडल की भूमिका निभाई है, जो बहुत साहसी, मजबूत, आत्मविश्वास से परिपूर्ण होने के साथ-साथ सौफ्ट और संवेदनशील भी है. ऐसे में जब मैंने इस के एक गाने को सुना, तो नया करने की इच्छा हुई और मैंने किया और इसे करने में समय नहीं लगा.

क्या फिल्मों में आना इत्तफाक था या पहले से सोचा था?

मैंने फिल्मों में आने की कल्पना कभी भी नहीं की थी. मैं जिमनास्ट, एस्ट्रोनौट, बास्केटबौल प्लेयर या एरोनौटिकल इंजीनीयर बनना चाहती थी. फिल्मों में आने के लिए परिवार वालों और दोस्तों ने कहा. पहले मुझे लगा था कि मैं इस क्षेत्र में सफल होउंगी या नहीं, पर जब मौडलिंग के औफर आने लगे, तो अपने ऊपर विश्वास हुआ और जब दो बार मिस इंडिया का खिताब जीती, तो आत्मविश्वास बढ़ा.

bollywood

किस फिल्म ने आपको प्रेरित किया?

मैंने पहले थिएटर में फिल्म ‘कहो न प्यार है’ देखी थी, उसमें ऋतिक के अभिनय से बहुत प्रेरित हुई थी. इसके बाद जब उन्होंने फिल्म ‘काबिल’ का गाना ‘हसीनों का दीवाना….’ डांस के लिए बुलाया, तो मुझे बहुत खुशी हुई थी. डांस मेरी एक्स्ट्रा टैलेंट है और अभिनय मेरा पैशन है.

परिवार का सहयोग कैसे था?

मैं इकलौती संतान हूं और बचपन से ही पैम्पर चाइल्ड रही हूं. मैं 16 साल की उम्र में मुंबई आ गयी थी. मेरी मां मीरा रौतेला, एक बिजनेस वुमन होने के साथ-साथ इंडस्ट्री की सबसे सुंदर महिला हैं और मेरे पिता भी व्यवसायी हैं, उनसे मानसिक और भावनात्मक सहयोग जो जरुरी होता है वह मिला.

‘मिस दिवा’ से अब तक का सफर कैसा था? कितना संघर्ष था?

मुझे मिस इंडिया बनना था और मैंने कई ब्यूटी प्रेजेंट भी जीता है, जिससे लोगों के बीच में जल्दी पोपुलर हो गयी थी, इससे मुझे मौडलिंग और एक्टिंग के औफर भी मिलने लगे थे. मुश्किल की अगर बात करें तो मैंने 16 साल की उम्र में ‘मिस यूनिवर्स’ के लिए पूरी तैयारिया की थी, लेकिन कौम्पीटिशन के समय पर मैं 20 दिन छोटी पड़ने की वजह से भाग नहीं ले सकी, यह मेरे लिए बहुत दुखद था. इसके अलावा सही फिल्मों के मिलने के लिए भी संघर्ष होता है.

सरिता विशेष

क्या कभी ‘कास्टिंग काउच’ का पाला पड़ा?

कास्टिंग काउच का सीधा सामना नहीं करना पड़ा, लेकिन कभी मुझे लीड बताकर किसी स्टार किड्स को ले लेना जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ा है. इंडस्ट्री में भाई-भतीजावाद है, लेकिन अगर मेरे अंदर प्रतिभा है, तो मैं उसे किसी न किसी दिन अवश्य बाहर लाने में समर्थ होउंगी. समय लगता है, पर काम अवश्य मिलता है.

फिल्मों में अन्तरंग दृश्य को करने में कितनी सहज हैं?

फिल्म में कहां क्या करना है मुझे पता होता है, इसके लिए में शोध भी करती हूं. अगर फिल्म में कोई इमोशन को दिखाना है, तो अपने मूड को बनाने के लिए मैं 500-500 बार पुशअप मारती थी. अचानक से अगर बेड सीन करना है, तो उसे करने के लिए मैं अपने ट्रिक्स का इस्तेमाल करती हूं. किसी चरित्र में जाने के लिए मैं अपने आप को पूरी तरह से तैयार करती हूं.

bollywood

फैशन कितना पसंद करती हैं? कितनी फूडी हैं?

मुझे क्रिएटिविटी बहुत पसंद है और ड्रेस में भी मैं खुद ही कुछ न कुछ क्रिएट करती रहती हूं. मुझे अपनी ‘क्लोदिंग लाइन’ भी निकालने की इच्छा है. मुझे बर्साची के पोशाक बहुत पसंद है. मुझे फैशन पसंद है. मैं बहुत फूडी हूं. हर तरह के व्यंजन पसंद है. मां के हाथ की बनाई हुई भिन्डी की सब्जी, पनीर के पराठे, रबड़ी के साथ इमरती, रसमलाई आदि सब पसंद है. मैं जंक फूड नहीं खाती, हेल्दी फूड लेती हूं. साथ ही हेल्थ ट्रेनिंग खूब लेती हूं.

आपका स्टाइल स्टेटमेंट क्या है? आपकी खूबसूरती का राज क्या है?

मैं हमेशा लुक बदलती रहती हूं. गाने में, फिल्मों में अलग-अलग लुक मैं खुद क्रिएट करती हूं. इससे मुझे काम करने में मजा आता है.

मेरी खूबसूरती का राज मेरे माता-पिता हैं, जिन्होंने अपनी जींस को मुझे दिया. इसके अलावा उत्तराखंड की खूबसूरत वादियां है.

क्या कोई ड्रीम प्रोजेक्ट है?

मुझे प्रोजेक्ट से अधिक खास निर्देशक के साथ काम करने की इच्छा है, जिसमें संजय लीला भंसाली और राजू हिरानी का नाम सबसे ऊपर है.

आपको लेकर कई बार ट्रोलिंग हुई है, उसे कैसे लिया?

‘ट्रोलर्स’ तो करते ही रहेंगे, उस पर मैं अधिक ध्यान नहीं देती, ‘इग्नोर’ करती हूं.

क्या कुछ सामाजिक काम करती हैं?

मेरी एक फाउंडेशन उर्वशी रौतेला फाउंडेशन है, जिसके तहत वहां के गरीब बच्चों को हर तरह की सुविधाएं दी जाती है.