सरिता विशेष

सोनाक्षी सिन्हा इन दिनों एक तरफ अपनी नई फिल्म ‘‘हैप्पी फिर भाग जाएगी’’ के प्रमोशन में व्यस्त हैं, तो दूसरी तरफ वह अंतरराष्ट्रीय संस्था ‘यूनेस्को’ के साथ जुड़कर काफी खुश हैं.

हाल ही में जब सोनाक्षी सिन्हा से हमारी एक्सक्लूसिव बातचीत हुई, तो सोनाक्षी सिन्हा ने ‘यूनेस्को’ का जिक्र करते हुए कहा-‘‘एक कलाकार के तौर पर जब हमारी एक पहचान बन जाती है, तो हमारी आवाज बहुत सारे लोगों तक पहुंचती है. यूनेस्को तमाम क्षेत्रों में बहुत बेहतरीन काम करने वाली अंतरराष्ट्रीय संस्था है. मेरा मानना है कि यदि हम कलाकार के तौर पर अपनी आवाज का सही तौर पर इस्तेमाल ना करें, तो वह गलत है.

यदि आपने अपनी जिंदगी में, अपनी शोहरत की वजह से कोई अच्छा या दूसरों के हित का काम नहीं किया, तो जब आप 80 साल के हो जाएंगे, तब आपको लगेगा कि आपकी जिंदगी कितनी बेकार रही. लेकिन यदि आपने शुरू से ही लोगों के हित के लिए कुछ काम किया है, तो 80 साल की उम्र में आपको लगेगा कि आपकी जिंदगी सही गुजरी है.

मैं शुरू से लोगों के हित के लिए तमाम काम करते आ रही हूं. जिनकी चर्चा मैं मीडिया या सोशल मीडिया पर नहीं करती हूं. क्योंकि मेरे माता पिता ने सिखाया है कि, ‘नेकी कर दरिया में डाल.’ पर वक्त बदला है. अब लोगों को भी पता चले कि आप क्या कर रही हैं? जिससे दूसरे भी अच्छा काम करने के लिए प्रेरित हों.

यूनेस्को एक अंतरराष्ट्रीय संस्था है, जो कि कई वर्षों से लोगों के हित के बहुत से काम करती आ रही है. मैं अपने आपको भाग्यशाली मानती हूं कि उन्होंने मुझे अपनी संस्था के साथ जोड़ा है. यह संस्था चाहती है कि मैं उनकी आवाज बनूं. तो मैं यूनेस्को के साथ जुड़कर वूमन इम्पावरमेंट, एज्यूकेशन आफ चिल्ड्रेन सहित तमाम क्षेत्रों में कुछ काम करने वाली हूं. इससे मैं बहुत खुश हूं.