29 अगस्त से ‘‘यूट्यूब’’ पर प्रदर्शित निर्देशक अदीब रईस की बीस मिनट की अवधि वाली लघु फिल्म ‘‘आंटी जी’’ में शबाना आजमी पारसी किरदार में नजर आ रही हैं. पारसी किरदार में पूरे तीन दशक बाद उनकी वापसी हुई है. इससे पहले 1988 में प्रदर्शित फिल्म ‘‘पेस्टनजी’’ में शबाना आजमी ने पारसी महिला का किरदार निभाया था. जबकि पूरे 13 वर्ष बाद उन्होंने किसी लघु फिल्म में अभिनय किया है. इससे पहले गूगल पर प्रसारित लघु फिल्म ‘‘वाटर बौर्ने’’ में उन्होंने अभिनय किया था.

शबाना आजमी का मानना है कि फीचर फिल्मों के समानांतर ही लघु फिल्में भी लोकप्रिय होती रहेंगी. वह कहती हैं-‘‘लघु फिल्म बनाम फीचर फिल्म की बात करना बेमानी है. दोनों समानांतर चलती रहेंगी. लघु फिल्मों में कहानी कहना आसान नहीं होता है. लेकिन दर्शकों को विविधतापूर्ण कहानियां परोसने के लिए लघु फिल्में सर्वाधिक बेहतरीन माध्यम है.’’

फिल्म ‘‘आंटी जी’’ की कहानी एक पारसी महिला के एक दिन की जीवनचर्या की कहानी है. जिसमें शबाना आजमी 60 वर्षीय विधवा पारसी महिला प्रवीणा की भूमिका में नजर आ रही हैं.