सरिता विशेष

फिल्म ‘परमाणु’ को लेकर जौन अब्राहम की कंपनी द्वारा ट्रेड पत्रिकाओं में नोटिस छपवाने के बाद ‘क्रियाज इंटरटनेमट’ की तरफ से जौन अब्राहम को दोषी ठहराते हुए बयानबाजी की गयी. ‘क्रियाज इंटरटेनमेंट’ द्वारा जारी बयान के बाद अब जौन अब्राहम की कंपनी ‘जौन अब्राहम इंटरटेनमेट’’ ने अपने प्रवक्ता के माध्यम से हर पत्रकार को ईमेल द्वारा अपना बयान भिजवाया है.

इस बयान में जौन अब्राहम ने कहा है-‘‘क्रियाज इंटरटनमेट के साथ हमारे द्वारा संबंध खत्म किया जाना कानूनी तौर पर वैध व जायज है. क्रियाज इंटरटेनमेंट ने इतनी वादा खिलाफी की है, अनुबंध की शर्तें इतनी तोड़ी हैं कि फिल्म की बेहतरी के लिए हमारे पास उनसे संबंध खत्म करने के अलावा कोई अन्य विकल्प ही नहीं रहा. हम यहां पर स्पष्ट रूप से कहना चाहते हैं कि हमने अपनी तरफ से फिल्म को प्रदर्शित करने के लिए सारी समस्याओं को सुलझाने के लिए क्रियाज इटरटेनमेंट से बात करने की काफी कोशिश की, पर कोई फायदा नहीं हुआ.’’

बयान में आगे कहा गया है-‘‘हमने हर कदम पर अपना वादा पूरा किया और इस बात को हमने समय समय पर लिखित रूप से क्रियाज इंटरटेनमेंट को सूचित भी किया है. कदम कदम पर हम उनसे पैसा मांगते रहे, पर उन्होंने समय से कभी पैसा नहीं दिया. कई बार उन्होंने हमें गलत यूटीआर नंबर भेजा. चेक को कई बार रुकवाया गया. उनकी तरफ से पैसा इतनी देर से दिया गया कि पोस्ट प्रोडक्शन के काम में अवरोध हुआ. हमें काफी आर्थिक नुकसान हुआ. जबकि हमारी शूटिंग समय से पूरी हो गयी थी.

हमने कई बार उन्हे याद दिलाया, मगर उन्होंने कभी भी फिल्म के वितरण की योजना के बारे में नहीं बताया. वह तीसरे पक्ष के साथ पारदर्शिता नहीं रख रहे हैं. हमने अभी तक क्रियाज के साथ किसी तीसरे पक्ष के होने को लेकर कोई अनुबंध नहीं किया है, यदि कोई तीसरा पक्ष है, तो.

जौन अब्राहम इंटरटेनमेंट ने देर से पैसा मिलने के बावजूद तीन तीन बार फिल्म के प्रमोशन व प्रदर्शन की तारीखों का ऐलान किया. मगर क्रियाज इंटरटेनेमट ने हमसे बात किए बगैर, हमें सूचना दिए बगैर बाहर हमारे खिलाफ बयान बाजी की और हम पर गलत आरोप लगाए. उन्होंने हर बार फिल्म का प्रदर्शन टलने के गलत कारण बताए.

हमने जब भी क्रियाज इंटरटेनमेंट से संपर्क किया, हमसे गलत वादे ही किए गए. इस तरह उन्होंने फिल्म के लिए कठिन समय को बर्बाद किया. फिल्म इंडस्ट्री क्रियाज इंटरटेनमेंट की कार्यशैली से पूरी तरह से परिचित है. उन्होंनेग अतीत में इसी तरह से एक अन्य फिल्म के साथ किया था.

उपरोक्त हालातों के चलते अपनी फिल्म के हित में हमने ‘क्रियाज इंटरटेनमेंट प्रा.लिमिटेड’ के साथ अनुबंध खत्म करने की घोषणा की है और बहुत जल्द हम फिल्म के प्रदर्शन की पूरी योजना की घोषणा करेंगे.

यदि अब भविष्य में क्रियाज इंटरटेनमेंट ने फिल्म के प्रदर्शन में विघ्न डालने, हमारे प्रोडक्शन हाउस को बदनाम करने आदि की कोशिश की, जैसा कि वह पिछली बार एक फिल्म के साथ कर चुके हैं, तो हम इनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही करने के लिए बाध्य होंगे.

‘‘जौन अब्राहम इंटरटेनमेंट’’ के इस पूरे बयान से एक बात यह भी साफ तौर पर उभरती है कि जौन अब्राहम को पता ही नहीं है कि ‘क्रियाज इंटरटनमेट’ ने जी स्टूडियो को भी तीसरे पक्ष के रूप में इस फिल्म के साथ जोड़ा हुआ है.

‘परमाणु’ के लिए जौन अब्राहम दोषी हैं या वे खुद फंस चुके हैं..??

फिल्म ‘‘परमाणु : द स्टोरी आफ पोखरण’’ को लेकर अभिनेता व निर्माता जौन अब्राहम तथा क्रियाज इंटरटेनमेंट के बीच तलवारे खिंच चुकी हैं. दोनों ने एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगाए हैं. जौन अब्राहम ने ट्रेड पत्रिकाओं में नोटिस छापकर क्रियाज इंटरटेनमेंट पर कई तरह के आरोप लगाते हुए खुद को फंसा हुआ और शोषित बताया है. जिस पर पलटवार करते हुए ‘क्रियाज इंटरटेनमेंट’ की प्रेरणा अरोड़ा ने जौन अब्राहम पर आरोप लगाते हुए उन्हे ही दोषी बताते हुए कटघरे में खड़ा कर दिया है. यह मामला अब और अधिक बिगड़ेगा, ऐसा लग रहा है.

वास्तव में 1998 में पोखरण में हुए सफल न्यूकलियर बम टेस्ट पर जौन अब्राहम ने जब फिल्म ‘‘परमाणु : द स्टोरी आफ पोखरण’’ का निर्माण शुरू किया था, तो इस फिल्म के निर्माण में सह निर्माता के रूप में प्रेरणा अरोड़ा की कंपनी ‘क्रियाज इंटरटेनमेंट’ को जोड़ा था. जौन अब्राहम की प्रोडक्शन कंपनी ‘‘जा इंटरटेनमेंट’’ ने ‘‘क्रियाज इंटरटेनमेट’’ के साथ एक अनुबंध किया था.

फिल्म ‘‘परमाणु’’ को 8 दिसंबर 2017 को प्रदर्शित होना था. सूत्र बताते हैं कि फिल्म पूरी हो चुकी है, मगर इसका प्रदर्शन 8 दिसंबर 2017 की बजाय टालकर फरवरी 2018 और फिर 2 मार्च 2018 किया गया. 2 मार्च 2018 को ‘क्रियाज इंटरटेनमेंट’ और अनुष्का शर्मा की फिल्म ‘परी’ प्रदर्शित हुई, इसलिए ‘परमाणु’ के प्रदर्शन की तारीख 6 अप्रैल की गयी थी. मगर अब यह फिल्म 6 अप्रैल को भी प्रदर्शित नहीं होगी. अब इसे ग्यारह मई को प्रदर्शित करने की बात कही जा रही है.

Parmanu The Story of Pokhran

जब से फिल्म ‘‘परमाणु’’ के प्रदर्शन की तारीखें बदलना शुरू हुई थीं, तभी से बौलीवुड में चर्चाएं गर्म हो गयी थी कि जौन अब्राहम और प्रेरणा अरोड़ा के बीच सब कुछ ठीक ठाक नहीं चल रहा है. पर दोनों इन अफवाहों को गलत बताते रहे. लेकिन अब जौन अब्राहम ने अपनी तरफ से पहल करते हुए ट्रेड पत्रिकाओं में नोटिस छपवाकर ऐलान कर दिया है कि फिल्म ‘‘परमाणु’’ से अब ‘क्रियाज इंटरटेनमेंट’ का कोई लेना देना नहीं है. अब इस फिल्म पर सारा अधिकार उनकी प्रोडक्शन कंपनी ‘जा इंटरटेनमेंट’ का है. अब उनकी कंपनी ही इस फिल्म के प्रदर्शन वगैरह को लेकर सारे निर्णय लेगी.

अपने इस नोटिस में जौन अब्राहम ने ‘क्रियाज इंटरटेनमेंट’ पर वादा खिलाफी के कई आरोप लगाए हैं. जौन अब्राहम का आरोप है कि ‘क्रियाज इंटरटेनमेंट’ ने फिल्म निर्माण के लिए दिया जाने वाला धन भी नहीं दिया है. दोनों के बीच रचनात्मक मतभेद काफी रहे. यहां तक दोनों के बीच इस बात पर सहमति नहीं हो पा रही है कि फिल्म के प्रदर्शन से पहले इसका प्रमोशन किस तरह से किया जाए..वगैरह वगैरह.

जौन अब्राहम की तरफ से ट्रेड पत्रिकाओं में नोटिस छपवाए जाते ही प्रेरणा अरोड़ा आग बबूला हो उठी हैं. अब तक प्रेरणा अरोड़ा ने किसी अभिनेता के खिलाफ कोई कटु बयान नहीं दिया था. फिल्म ‘केदारनाथ’ के विवाद के वक्त भी प्रेरणा अरोड़ा की तरफ से फिल्म के कलाकारों पर कोई आरोप नहीं लगाए गए. प्रेरणा ने फिल्म के निर्देशक अभिषेक कपूर पर ही आरोप लगाए थे. मगर इस बार प्रेरणा अरोड़ा की कंपनी ‘क्रियाज इंटरटेनमेंट’ की तरफ से सीधे जौन अब्राहम पर हमला बोला गया है.

Parmanu The Story of Pokhran

क्रियाज इंटरटेनमेंट की तरफ से कहा गया है कि जौन अब्राहम उनकी कंपनी के साथ कानूनी अनुबंध में बंधे हुए हैं और वह किसी भी सूरत में फिल्म ‘परमाणु’ को ‘क्रियाज इंटरटेनमेंट’ से अलग नहीं कर सकते.

‘‘क्रियाज इंटरटेनमेंट’’ कंपनी से जुड़े अधिकारी ने एक वेब साइट से बात करते हुए कहा हैं-‘‘ट्रेड पत्रिकाओं में जौन अब्राहम ने जो नोटिस छापा है, वह बेमानी है. फिल्म के साथ संयुक्त निर्माता/प्रस्तुत कर्ता सहित हमारे सारे अधिकार सुरक्षित हैं. हमने अपने सारे वादे समय से पूरे किए हैं. ‘जा इंटरटेनमेंट’ को शुरू से ही पता था कि ‘क्रियाज इंटरटेनमेंट’ और ‘जी स्टूडियो’ फिल्म के सह निर्माता हैं. फिल्म को विदेश में वितरण के अधिकार के साथ ही सारे सेटेलाइट, डिजिटल व संगीत के अधिकार हमारे पास हैं.

‘जा इंटरटेनमेंट’ ने अब तक अपने एक भी वायदे पूरे नहीं किए. उन्होंने अब तक हमें नहीं बताया कि फिल्म पूरी हो चुकी है. इतना ही नहीं वह अवैध तरीके से बार बार फिल्म के प्रदर्शन की तारीखें बदलते जा रहे हैं. परिणामतः हमें काफी आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा है और हमारी अपनी इज्जत पर भी धब्बा लगा है. फिल्म को बड़े स्तर पर प्रमोट करने के लिए हमने योजना बनायी है, उस पर भी हम काफी धन खर्च कर चुके हैं. हम उन्हे अपेक्षित पैसा दे चुके हैं, फिर भी वह हमसे धन की मांग कर रहे हैं, जो कि अनुबंध के अनुसार भी हमें उन्हें नहीं देना चाहिए. सच यह है कि ‘जा इंटरटेनमेट’ हमें अवैध तरीके से दबाने के साथ साथ हमें आर्थिक नुकसान पहुंचाती आ रही है. पर हम फिल्म की बेहतरी के लिए चुप हैं, किंतु अब उन्होंने गलत नोटिस छपवाकर और अधिक गलत कदम उठाया है.’’

जौन अब्राहम और प्रेरणा अरोड़ा में से कौन कितना सच बोल रहा है, यह तो यही दोनों जानते होंगे. इनके बीच किस तरह के अनुबंध पत्र पर हस्ताक्षर किए गए हैं, यह भी फिलहाल इन्हे ही पता है. मगर बौलीवुड में चर्चा हो रही है कि प्रेरणा अरोड़ा जिस तरह से फिल्मकारों के साथ पेश आ रही हैं, उसे देखते हुए हर फिल्मकार व कलाकार को उनके साथ हाथ मिलाने से पहले दस बार सोचना चाहिए.

ज्ञातब्य है कि कुछ समय पहले फिल्म ‘केदारनाथ’ को लेकर भी प्रेरणा अरोड़ा की अभिषेक कपूर के साथ अनबन हुई थी, पर अंत में अनुबंध पत्र की ही वजह से अभिषेक कपूर को प्रेरणा अरोड़ा के सामने घुटने टेकने पडे़.

अब देखना यह है कि जौन अब्राहम अैर प्रेरणा अरोड़ा के बीच फिल्म ‘‘परमाणु’’ को लेकर जो विवाद छिड़ा है, उसका परिणाम क्या सामने आता है? कौन दोषी और कौन शोषित साबित होता है? पर इस तरह के विवादों के ही चलते भारतीय सिनेमा में स्टूडियो सिस्टम पर से लोगों का विश्वास डगमगा रहा है.

VIDEO : फंकी पाइनएप्पल नेल आर्ट

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.