आम तौर पर हर भारतीय फिल्मकार एक ही रट लगाए रहता है कि दर्शक सिर्फ मनोरंजन के लिए ही फिल्में देखता है. ‘विक्की डोनर’, ‘मद्रास कैफे’के बाद अब ‘परमाणुः ए स्टोरी आफ पोखरण’के निर्माता व अभिनेता जौन अब्राहम भी मानते हैं कि भारतीय दर्शक सिनेमा में मनोरंजन देखना चाहता है. पर वह इरानी फिल्मकार माजिद मजीदी के इस कथन से भी सहमत नजर आते हैं कि भारतीय फिल्मकार मनोरंजन के नाम पर भारत की गलत छवि विदेशो में पेश कर रहे हैं.

जब हमने जौन अब्राहम से माजिद मजीदी के कथन का जिक्र किया, तो ‘‘सरिता’’ पत्रिका से एक्सक्लूसिव बात करते हुए जौन अब्राहम ने कहा- ‘‘जब हम हर फिल्म में सिर्फ नाच गाना दिखाएंगे, तो विदेशों में हमारी इन फिल्मों को देखकर लोग यही सोचेंगे कि हम सिर्फ नाच गाना ही करते रहते हैं. इसलिए ‘मद्रास कैफे’ और‘परमाणु’जैसी फिल्में बननी चाहिए. वास्तव में इंसान दिन भर काम कर, कई तरह की समस्याओं से जूझने के बाद जब घर पहुंचता हैं, तो डिप्रेस्ड हो जाता है. उस वक्त उन्हें मनोरंजन की चाहत होती है. इसलिए हर किसी का अपना नजरिया होता है.

मेरा मानना है कि यदि हम लोग एक ही तरह की फिल्म बनाते रहेंगे, तो बाहर उसकी गलत छवि तो जाएगी ही. मैं आपको बताता हूं. जब मैं अमरीका के लौस एंजिल्स जाता हूं, तो वह लोग सबसे पहले बौलीवुड बोलते हैं. पर मैं बौलीवुड की जगह भारतीय फिल्म इंडस्ट्री कहता हूं. फिर वह कहते हैं कि ‘सांग एंड डांस’तो वह सही कहते हैं. क्योंकि हम अपनी फिल्मों में सिर्फ यही देते हैं. तो जब तक हम मरेंगे नहीं, तब तक नाचते रहेंगे. हमारे फिल्मी हीरो तो शादियों में भी नाचते हैं. हर जगह नाचते हैं. पैसे के लिए किसी की भी शादी में नाचने चले जाते हैं.’’

bollywood

जब हमने जौन अब्राहम से पूछा कि उद्योगपतियों की शादी में जाकर नाचने को वह कितना जायज मानते हैं?’ तो जौन अब्राहम ने बिना लाग लपेट के कहा- ‘‘जो नाचने जाते हैं, मैं उन पर कुछ कमेंट नही कर सकता. हर किसी का अपना एक नजरिया होता है. पर मैं किसी की शादी में नाचने नहीं जाता. शायद आमिर खान भी नहीं जाते. पर पूरी फिल्म इंडस्ट्री यह काम करती है. मेरा मानना है कि हम कलाकार हैं. हमारा काम रचनात्मक है. हमें परदे पर आना चाहिए, शादियों में नाचना नहीं चाहिए. खैर, मुझे तो शादियों में जाकर नाचना अच्छा नहीं लगता. यदि मैं किसी शादी में नाचने पहुंच जाउंगा, तो मुझे रात भर नींद नहीं आएगी. लोगों ने मुझे कई बार सलाह दी. मैंने कई बार करोड़ों रुपए छोड़ दिए, पर शादी में नाचने नहीं गया.’’