सरिता विशेष

अंततः अति खराब फिल्म ‘‘रेस 3’’ बाक्स औफिस पर बुरी तरह से डूब गयी. इसे डूबने से सलमान खान के समर्पित प्रशंसक और ‘ईद’ का अवसर भी न बचा पाया. जब फिल्म ‘रेस 3’ ईद के मौके पर सिनेमा घरों में पहुंची थी, तभी फिल्म आलोचकों ने एक सुर से इस फिल्म के घटिया और बेकार होने की बात कही थी. लेकिन सलमान खान ने ईद के मौके पर अपनी छोली भर लेने की सारी कोशिशें की. यहां तक कि उन्होंने मीडिया में यह खबर भी फैलायी कि उनकी फिल्म बाक्स आफिस पर बहुत अच्छा कमा रही है और सफलता के कई रिकार्ड तोड़ते हुए 300 करोड़ से भी अधिक कमाने वाली है.

मगर अफसोस की बात है कि पहले तीन दिन के बाद ‘ईद’ का खुमार खत्म होते ही ‘रेस 3’ बाक्स आफिस पर औंधे मुंह गिरी. हालात यह रहे कि ‘ईद’ व बासी ईद के दिन जो दर्शक ‘‘रेस 3’’ देखने गए, उन्होंने भी सिनेमाघरों से बाहर निकलते ही अपना दुःख प्रकट किया था.

खैर, सलमान खान की फिल्म ‘‘रेस 3’’ को लोगों ने इस बुरी तरह से नकारा कि पिछले ग्यारह दिन के अंदर यह फिल्म 150 करोड़ का भी आंकड़ा नहीं छू पायी. हालात यह हैं कि सलमान खान के समर्पित प्रशंसकों ने भी फिल्म ‘रेस 3’ देखने के बाद सिर पीटते हुए कहा कि सलमान खान ने उन्हें जरूरत से ज्यादा निराश किया है.

उधर सलमान खान ने अपनी तरफ से तमाम कोशिशें कर मीडिया के कुछ हलकों में इस फिल्म के आंकड़ों को बढ़ा चढ़ा कर पेश कराया. पर वह सच को ज्यादा समय तक दबा नहीं पाए. अब सूत्र बता रहे हैं कि फिल्म ‘‘रेस 3’’ के तमाम वितरकों ने मांग की है कि सलमान खान उनके नुकसान की भरपायी करें. यानी कि जिस तरह से सलमान खान ने फिल्म ‘‘ट्यूबलाइट’’ के असफल होने पर फिल्म वितरकों को उनके पैसे लौटाए थे, उसी तरह से अब ‘रेस 3’ के असफल होने पर भी उन्हें वितरकों के पैसे लौटाने चाहिए और यदि ऐसा हुआ तो हर वितरक को 18 करोड़ रूपए वापस देने पड़ेंगे.

यदि हम सलमान खान व फिल्म ‘रेस 3’ से जुड़े निर्माता ‘टिप्स’ कंपनी की बात को सच मान लें, तो सलमान खान और टिप्स कंपनी ने तो अपनी जेबें भर ली हैं. क्योंकि इन्होंने अपनी फिल्म की पूरी लागत सेटेलाइट राइट्स बेच कर ही कमा लिए थे. उसके बाद आबू धाबी में शूटिंग करने की वजह से आबू धाबी सरकार की तरफ से उन्हें सब्सिडी के तौर पर 40 करोड़ रूपए मिले. इतना ही नहीं फिल्म ‘रेस 3’ ने मुंबई-महाराष्ट्र, दिल्ली-यूपी में ही ज्यादा कमायी की है, पर इन सभी जगहों पर सलमान खान ने खुद ही वितरक बनकर फिल्म प्रदर्शित की. इस तरह सलमान खान और टिप्स कंपनी ने तो अपने नुकसान की भरपायी कर ली.

पर गुजरात, राजस्थान, बिहार, बंगाल सहित दूसरे क्षेत्रों के वितरकों का क्या होगा? सूत्रों के अनुसार सलमान खान ने फिल्म ‘रेस 3’ को 63 करोड़ रूपए में बेचा है और यह फिल्म अब ज्यादा से ज्यादा हर वितरक को 45 करोड़ ही कमा कर दे सकती है. तो हर वितरक को जो 18 करोड़ का नुकसान हो रहा है, उसकी भरपायी कौन करेगा? यदि सलमान खान ने वितरकों के नुकसान की भरपायी नहीं की, तो उनकी अगली फिल्मों के लिए वितरक मिलने मुश्किल हो जाएंगे.

फिल्म ‘‘रेस 3’’ को सिर्फ बाक्स आफिस पर ही नुकसान नहीं हुआ है. बल्कि इससे सलमान खान की अपनी इमेज को भी धक्का लगा है. पूरे विश्व में सर्वाधिक खराब फिल्मों की सूची में ‘रेस 3’ को रखा जा रहा है. जी हां! ‘इंटरनेट मूवी डेटा बेस’ में फिल्म ‘रेस 3’ सर्वाधिक कम रेटेड फिल्म की सूची में 79 नंबर पर पहुंच गयी है. यानी कि ‘रेस 3’ को ‘हमशकल्स’ व ‘हिम्मतवाला’ से भी बदतर माना जा रहा है.

इतना ही नहीं सलमान खान के जो अब तक समर्पित प्रशंसक रहे हैं, वह भी अब सलमान खान से दूरी बना रहे हैं. इन सलमान खान के प्रशंसकों ने सोशल मीडिया पर मुहिम चलायी है कि अब उन्हें सलमान खान की फिल्म ‘दबंग 3’ नहीं देखनी है. इसके मायने यह हुए कि सलमान खान के प्रशंसकों ने सलमान खान से कह दिया है कि अब वह ‘दबंग 3’ भी ना बनाए. इतना ही नहीं तमाम प्रशंसक सोशल मीडिया पर लिख रहे हैं कि वह एक बार रोते धोते ‘ट्यूबलाइट’ देख सकते हैं. पर ‘रेस 3’ नहीं.

सलमान खान के तमाम प्रशंसक तो ‘रेस 3’ जैसी फिल्म के निर्माण से जुड़ने, फिल्म के लिए 3 गीत लखने व गाने के लिए भी सलमान खान की आलोचना कर रहे हैं. सलमान खान के कुछ प्रशंसक सोशल मीडिया पर उन्हें सलाह देते हुए लिख रहे हैं कि सलमान खान को गीत लिखने या गीत गाने से दूरी बनाकर रखनी चाहिए व अपने अभिनय पर ध्यान देना चाहिए.

बौलीवुड के हलकों में भी कई तरह की चर्चाएं गर्म हैं. तमाम लोगों की राय में फिल्म ‘रेस 3’ की असफलता के लिए सिर्फ इसके निर्माता ही नहीं बल्कि सभी कलाकार, लेखक, निर्देशक व पीआर एजेंसी सहित कई लोग दोषी हैं. फिल्म ‘‘रेस 3’’ को प्रमोट करने का जो तरीका अपनाया गया, वह भी गलत रहा.

हाल ही में तमाम असफल फिल्मों को गलत ढंग से प्रचारित करने का आरोप जिस पी आर एजेंसी पर लगता रहा है, उसी ने ही ‘रेस 3’ का भी पी आर किया. अब सूत्र भी कह रहे हैं कि इस पी आर एजेंसी ने फिल्म को प्रमोट करने की कोई सही योजना नहीं बनायी. हालात यह थे कि फिल्म ‘रेस 3’ के सिनेमा घरों में पहुंचने के दस दिन पहले ‘रेस 3’ के सभी कलाकारों को मुंबई के एक स्टूडियो में बुलाकर 25-30 पत्रकारों के ग्रुप में एक के बाद एक इंटरव्यू करवाए गए.

सूत्र बताते हैं कि एक ही दिन में सलमान खान, बौबी देओल, जैकलीन फर्नाडिज, डेजी शाह और निर्देशक रेमोमी डिसूजा के इंटरव्यू हुए थे. सुबह से देर रात तक इंटरव्यू का सिलसिला चला था, पर उसके बाद क्या छपा? इसे जानने का प्रयास निर्माता की तरफ से नहीं हुआ.

बौलीवुड में चर्चा यह भी है कि ‘रेस 3’ के डूबने के साथ ही अब सलमान खान का रेमो डिसूजा पर यकीन उठ गया. अब उन्होंने रेमो डिसूजा के निर्देशन मे उस नृत्य प्रधान फिल्म को न करने का फैसला कर लिया है, जिसका निर्माण भी वह खुद करने वाले थे. अब वह अपनी इस फिल्म के लिए नए निर्देशक की तलाश कर हैं. रेमो डिसूजा मूलतः नृत्य निर्देशक हैं. उनके निर्देशन में बनी नृत्य प्रधान फिल्म ‘एबीसीडी’ ने जरूर सफलता दर्ज करायी थी, लेकिन उसके बाद रेमो ने जितनी फिल्में निर्देशित की, वह सभी बाक्स आफिस पर औंधे मुंह ही गिरती आयी हैं.