सरिता विशेष

इन दिनों यूट्यूब पर ‘‘सेलीब्रेशन’’ गीत ने हंगामा मचा रखा है. सिर्फ ‘यूट्यूब’ ही क्यों सोशल मीडिया के हर प्लेटफार्म पर सिर्फ इसी गीत की चर्चा हो रही है. इस गीत को गार्गी रूप सिंह ने अपनी मधुर आवाज में गाया है. इसका वीडियो भी उन्हीं पर फिल्माया गया है. इस गीत के लेखक राज हंस ने ही इसे संगीत से संवारने के साथ साथ इसके वीडियो का निर्देशन भी किया है. वास्तव में इस गीत की सबसे बड़ी खूबसूरती यह है कि परदे पर इस गीत को देखते हुए लोगों को उत्तर भारत की सभ्यता, संस्कृति व गांव के माहौल की याद आ जाती है.

मूलतः ग्वालियर, मध्यप्रदेश निवासी गार्गी रूप सिंह की शिक्षा दिक्षा ग्वालियर में हुई. वह बचपन से ही संगीत की शिक्षा लेती आयी हैं. स्नातक तक की पढ़ाई करने के बाद संगीत जगत में कुछ करने की मंशा के साथ गार्गी रूप सिंह मुंबई पहुंची. मुंबई में उन्हें सबसे पहले हिंदी फिल्म ‘‘लव टर्न’’ में पार्श्व गायन करने का अवसर मिला. फिल्म ‘‘लव टर्न’’ दिसंबर माह में प्रदर्शित होने वाली है. इस फिल्म के परदे पर आने से पहले ही वह अपने ‘सेलीब्रेशन’ गीत की वजह से जबरदस्त शोहरत बटोर रही हैं.

खुद गार्गी रूप सिंह कहती हैं, ‘‘इस गीत की रचना करते समय मैंने तथा गीतकार व संगीतकार हंस राज ने इस बात का ख्याल रखा कि इसे अपने देश की मिट्टी की महक से जोड़कर पेश किया जाए. इसी के चलते इसके संगीत में उत्तर भारत का अहसास होता है. इसके वीडियो को देखते हुए लोग अपनी जड़ों से जुड़ पा रहे हैं. इसके वीडियो में आपने देखा होगा कि उत्तर भारत के गावों, कस्बों व छोटे शहरों में शादी के मौके पर जिस तरह लोग अपने घरो की छतों पर चारपाई डालकर डीजे बजाते हुए नाचते गाते हैं, वैसा ही सब कुछ इस गीत में है.’’

इन दिनों ‘क्लब सांग’ का जमाना है. सभी गायक व संगीतकार ऐसे गीतों को बना रहे हैं, जो कि डांस क्लब में बजे और लोग उस पर थिरकें. पर उससे हटकर आपने देशी गीत पर काम करने की बात क्यों सोची? इस सवाल पर ‘सेलीब्रेशन’ गीत के गीतकार व संगीतकार हंस राज ने कहा, ‘‘हमारा मकसद महज क्लब या डांस बार में जाने वालों के लिए गीत बनाना नहीं रहा. हमारा मकसद हर आम इंसान तक इसे पहुंचाना रहा. इसलिए हमने आम इंसान की पसंद का ख्याल कर इस गीत को लिखा, संगीत से संवारा और उसी के अनुरूप हमने इसका वीडियो बनाया. हमारे इस गीत को सुनते व देखते हुए हर आम इंसान के पैर खुद ब खुद थिरकने लगते हैं.’’