सरिता विशेष

आखिरकार अक्षय कुमार ने संजय लीला भंसाली के निवेदन को स्वीकार करते हुए अपनी फिल्म ‘‘पैडमैन’’ को 25 जनवरी की बजाय 9 फरवरी को प्रदर्शित करने का ऐलान अचानक अपने घर पर प्रेस कांफ्रेंस आयोजित कर संजय लीला भंसाली की मौजूदगी में किया.

संजय लीला भंसाली की मौजूदगी में इस प्रेस कांफ्रेंस में अक्षय कुमार ने कहा- ‘‘मेरी फिल्म ‘पैडमैन’ 25 जनवरी को प्रदर्शित हो रही थी. इसी दिन संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावत’ भी प्रदर्शित हो रही थी. संजय लीला भंसाली ने मुझसे कहा कि मैं अपनी फिल्म की तारीख आगे ले जाऊं. संजय और उनकी फिल्म ने काफी मुसीबतें सही हैं. उनकी फिल्म में काफी पैसा लगा है. वह मेरे मित्र भी हैं. तो अब मैं अपनी फिल्म ‘पैडमैन’ को 9 फरवरी को प्रदर्शित करुंगा.’’

अक्षय कुमार ने आगे कहा- ‘‘यूं तो दोनों फिल्में 25 जनवरी को प्रदर्शित हो सकती थी. मगर उनकी फिल्म ‘पद्मावत’ पर बहुत कुछ दांव पर लगा हुआ है. इसलिए इसका प्रदर्शित होना जरुरी है. मैं बाद में अपनी फिल्म प्रदर्शित करुंगा.’’

इसी प्रेस कांफ्रेंस में संजय लीला भंसाली ने कहा- ‘‘मैं अक्षय का जीवन भर आभारी रहूंगा.’’

मजेदार बात यह है कि कुछ दिन पहले अक्षय कुमार ने कहा था कि 26 जनवरी का वीकेंड काफी लंबा है. इसलिए दोनों फिल्में अच्छा व्यापार कर सकती हैं. हर फिल्म का अधिकार होता है, जब चाहे, तब उसे प्रदर्शित किया जाए..’’

जबकि फिल्म ‘‘पैडमैन’’ के निर्देशक आर बाल्की ने एक सप्ताह पहले साफ साफ कहा था कि “पैडमैन” के साथ संजय लीला भंसाली को अपनी फिल्म “पद्मावत” नहीं लाना चाहिए.

बहरहाल, बौलीवुड के सूत्रों का दावा है कि 20 जनवरी की रात मुंबई में आयोजित एक समारोह में 63 वां फिल्मफेयर अवार्ड घोषित होना है, इस अवार्ड के लिए अक्षय कुमार की फिल्म ‘‘ट्वायलेट एक प्रेम कथा’’ सर्वश्रेष्ठ फिल्म तथा खुद अक्षय कुमार सर्वश्रेष्ठ कलाकार के पुरस्कार के लिए नामांकित हैं. इस समारोह के लिए ही अक्षय कुमार रिहर्सल कर रहे थे, जहां पर संजय लीला भंसाली और अक्षय कुमार की मुलाकत और इनके बीच बातचीत हुई, फिर आनन फानन में प्रेस कांफ्रेंस बुलाकर “पैडमैन” को 9 फरवरी को प्रदर्शित करने का ऐलान कर दिया गया.

पद्मावत” की मुसीबतें कम नहीं

उधर ‘‘पद्मावत’’ को सुप्रीम कोर्ट के आदेश की वजह से भले ही राहत मिल गयी हो, मगर मुश्किलें अभी भी कम नहीं हुई हैं. राजपूत करणी सेना ने अपना विरोध उग्र कर दिया है और खून बहाने तक की धमकियां दी जा रही हैं.

24 को जोहर

कहा जा रहा है कि राजस्थान में 1800 से अधिक औरतों ने “पद्मावत” के प्रदर्शित होने पर 24 जनवरी को जोहर करने का ऐलान किया है. इतना ही नहीं ‘केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड’ के चेयरमैन प्रसून जोशी के राजस्थान प्रवेश पर बैन की भी बात की गयी है. कुल मिलाकर “पद्मावत” के खिलाफ विरोध कम नहीं हो रहा है. यह विरोध अब बिहार राज्य में भी पहुंच गया है.

सोशल मीडिया पर दीपिका पादुकोण

तो वहीं सोशल मीडिया पर “पद्मावत” और दीपिका पादुकोण का मजाक उड़ाया जा रहा है. एक सोशल मीडिया पर ‘‘सद्मावती’’ के नाम से पोस्टर रिलीज किया गया है..

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बयानबाजियां

सुप्रीम कोर्ट द्वारा चार राज्यों द्वारा “पद्मावत” को बैन किए जाने को गलत ठहराने के आदेश को लेकर  बयानबाजियां तेज हो गयी हैं. अहमदाबाद में ‘महाकाल सेना’ के अध्यक्ष संजय सिंह चैहाण ने कहा है- ‘‘खिलजी को चित्तौड़ जीतने में छह माह लगे थे. छह दिन मे सुप्रीम कोर्ट फैसला कैसे सुना सकता है.’’

जिन चार राज्यों ने “पद्मावत” को बैन किया है, उनके मुख्यमंत्री कह रहे हैं कि वह सुप्रीम कोर्ट के आदेश का अध्ययन कर रहे हैं. उसके बाद ही निर्णय लेंगे. यानी कि अभी तक बैन हटेगा या नहीं, इस पर रहस्य बना हुआ है.

कानून के जानकार मानते हैं कि राज्य सरकारें कानून व्यवस्था का हवाला देकर बैन को जारी रख सकती हैं.