सरिता विशेष

फिल्म की कहानी मुंबई के एक मध्यमवर्गीय चालनुमा बहुमंजिली इमारत में रह रही फ्लोरी मैंडोसा (रेणुका शहाणे) से शुरू होती है, जो कि अपनी खोली (मकान) बेचना चाहती हैं. उनके इस मकान को खरीदने के लिए सुदीप शर्मा (पुलकित सम्राट) आते हैं. मकान की कीमत 20 लाख रूपए है, मगर फ्लोरी अपने इस मकान को अस्सी लाख में बेचना चाहती हैं, पर सुदीप इस मकान को खरीदने के लिए बेताब हैं, क्योंकि उसे रेलवे स्टेशन के करीब वाले मकान की तलाश है.

वैसे सुदीप इस तरह के मध्यमवर्गीय इलाके के लिए उपयुक्त नहीं है. तो दूसरी तरफ इस इमारत में रही वर्षा (मसुमेह मखीजा) और शंकर वर्मा (शर्मन जोशी) की प्रेम कहानी चलती रहती है, पर इन दोनों के नौकरी, माता पिता की अनुमति के आदर्श में बंधे होने के कारण वर्षा की शादी सुदीप शर्मा से हो चुकी होती है. वर्षा दुःखद व हिंसायुक्त जिंदगी जीती रहती है. इसी इमारत में रह रहे रिजवान (दधि पांडे) के बेटे सुहेल (अंकित राठी) और मालिनी (आएशा अहमद) की प्रेम कहानी है. इन तीनों कहानियों के दर्दनाक पलों में रंग भरने का प्रयास करती सूत्रधार लीला (रिचा चड्ढा) नजर आती हैं, जो कि अपरंपरागत विधवा है.

bollywood

कथानक के स्तर पर यह फिल्म काफी सामान्य है. तीनों कहानियों के बीच मध्यमवर्गीय परिवेश के अलावा कोई समानता नहीं है. इनके बीच एकमात्र समानता यही है कि इन तीनों कहानियों के पात्र एक दूसरे के पड़ोसी हैं. यूं तो लेखक व निर्देशक ने फिल्म में इंसानी जिंदगी की छोटी छोटी खुशियों व गमों को बिना नाटकीयता के पिरोया है, मगर तमाम दृश्य अविश्वसनीय व कपोल कल्पित नजर आते हैं. कमजोर पटकथा के चलते फिल्म काफी घिसटते घिसटते अपनी मंजिल तक पहुंचती है. तीनों कहानियों को सलीके से कहा जाता, तो फिल्म बेहतर बन सकती थी. टुकड़ों में इसके कुछ दृश्य अच्छे लगते हैं, मगर पूरी फिल्म निराश करती है. इसमें काफी एडिट करने की जरुरत थी. फिल्म का गीत संगीत भी प्रभावित नहीं करता.

अरूण मुखर्जी की बतौर निर्देशक यह पहली फिल्म है, पर अफसोस वह बेहतरीन कलाकारों की प्रतिभा का सदुपयोग करने में असफल रहते हैं.

जहां तक अभिनय का सवाल है तो क्रिश्चियन महिला फ्लोरी मैंडोसा के किरदार में रेणुका शहाणे अपने अभिनय से हर किसी को चैंकाती हैं. फिल्म उनके अभिनय के लिए याद रखी जाएगी. रिचा चड्ढा ने एक बार फिर साबित किया कि उनके अंदर अद्भुत अभिनय क्षमता है और वह छोटे किरदार में भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराने में सफल होती हैं. शर्मन जोशी का दमदार अभिनय सोचने पर मजबूर करता है कि उन्हें फिल्मों में ज्यादा काम क्यों नहीं मिलता है. बाकी के कलाकारों का अभिनय सहज है. फिल्म के कैमरामैन ने भी काफी अच्छा काम किया है.

एक घंटा चालिस मिनट की अवधि वाली फिल्म‘‘थ्री स्टोरीज’’का निर्माण रितेश सिद्धवानी व फरहान अख्तर ने ‘एक्सेल इंटरटेनमेंट’के बैनर तले किया है. फिल्म के निर्देशक अर्जुन मुखर्जी, संगीतकार क्लिंटन सिरेजो, कैमरामैन अरिंदम घटक हैं. कलाकार हैं- रेणुका शहाणे, रिचा चड्ढा, दधि पांडे, अंकित राठी, शर्मन जोशी, मसुमेह मखीजा व अन्य.