सरिता विशेष

भोजपुरी फिल्मों की खास बात यह है कि इन में छोटे शहरों की लड़कियों के लिए भी दरवाजे खुले हुए हैं. यही वजह है कि उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले की रहने वाली अंजना सिंह आज भोजपुरी फिल्मों की सब से महंगी हीरोइनों में से एक हैं. अंजना सिंह पिछले 5 साल में 50 से ज्यादा फिल्में कर चुकी हैं. उन्हें भोजपुरी फिल्मों की हौट और सैक्सी हीरोइन माना जाता है. वे तकरीबन हर बड़े हीरो के साथ काम कर चुकी हैं.

फिल्म ‘जिगर’ की कामयाबी के बाद अंजना सिंह की एक और फिल्म ‘नागराज’ आने वाली है जिस में वे खूबसूरत सैक्सी नागिन का रोल अदा कर रही हैं. पेश हैं, अंजना सिंह के साथ हुई बातचीत के खास अंश :

आप का अब तक फिल्मों का सफर कैसा रहा है?

मैं ने फिल्मों में हर कामयाब स्टार के साथ काम किया है. सभी के साथ हिट फिल्में दी हैं. भोजपुरी फिल्मों ने मुझे बहुतकुछ दिया है. मैं फैशन की दुनिया से ऐक्टिंग में आई. यहां आ कर काम सीखा और कामयाबी हासिल की. मैं अब तक के अपने सफर से खुश हूं.

मैं ने दिनेशलाल के साथ फिल्म ‘जिगर’ की थी जो बहुत कामयाब रही थी. अब फिल्म ‘नागराज’ सिनेमाघरों में आने वाली है जिसे लोग जरूर पसंद करेंगे.

आप ने फिल्मों में आने का फैसला कैसे लिया था?

मैं बहराइच के एक साधारण परिवार से हूं. 4 भाईबहनों में मैं दूसरे नंबर पर हूं. मेरा बचपन से ही हीरोइन बनने का सपना था. जब मैं 12वीं क्लास में थी उसी समय लखनऊ में ‘मिस यूपी शो’ हो रहा था. उस में हिस्सा लेने के लिए मुझे ‘मिस बहराइच’ का खिताब जीतना जरूरी था. मैं ने ‘मिस बहराइच’ का खिताब जीता और लखनऊ पहुंच गई. ‘मिस यूपी’ में मैं रनरअप रही थी. वहां से मुझे लगा था कि फैशन प्रतियोगिताओं के जरीए मैं हीरोइन बनने का अपना सपना पूरा कर सकती हूं. मैं मुंबई गई. वहां कुछ शो किए और फिर मुझे एक टैलीविजन सीरियल में काम करने का मौका मिला.

सीरियल में मेरा काम देख कर रविकिशन के साथ फिल्म ‘फौलाद’ मुझे मिली. इस के बाद मैं ने वापस मुड़ कर नहीं देखा. एक साल में सब से ज्यादा फिल्में साइन करने वाली हीरोइन के रूप में भी मुझे जाना जाता है.

भोजपुरी फिल्मों में आप को बोल्ड सीन करने के लिए ज्यादा जाना जाता है. इस की वजह?

मैं फिल्मों में अपने रोल के हिसाब से काम करती हूं. भोजपुरी फिल्मों में दर्शक थोड़े अलग होते हैं. उन में से ज्यादातर गांवदेहात के मजदूरकिसान ही होते हैं. वे मनोरंजन करने के लिए हमारी फिल्में देखते हैं. वे चाहते हैं कि उन के खरीदे गए टिकट का पूरा पैसा वसूल हो. ऐसे में भोजपुरी फिल्मों में उन की पसंद की कहानीऔर गाने रखे जाते हैं. मुझे लगता है कि फिल्म देखते समय हमारे गाने, डांस और ऐक्टिंग देख कर अगर दर्शक सीटी बजाने लगते हैं तो हम उन का मनोरंजन करने में कामयाब हो जाते हैं. दर्शक मुझे ज्यादा पसंद करते हैं, इसीलिए मुझे ज्यादा फिल्में मिली हैं.

भोजपुरी फिल्मों में खुलेपन की बहुत बुराई होती है. आप इसे कैसे देखती हैं?

भोजपुरी फिल्मों से ज्यादा खुलापन तो हिंदी फिल्मों में होता है. वहां काम करने वाले कलाकारों को अलग नजर से देखा जाता है, इसलिए उन की बुराई कम होती है. भोजपुरी फिल्मों का बड़ा दर्शक वर्ग गांवों में रहता है. गंवई बोली होने के चलते इन में कही गई हर बात लोगों को देहाती लगती है. हमारे समाज में छोटे आदमी की बुराई करने का रिवाज भी है पर मुझे भोजपुरी फिल्मों के खुलेपन में कोई बुराई नजर नहीं आती.

आप अपना खाली समय कैसे बिताती हैं?

मैं घुड़सवारी करना पसंद करती हूं. इस के अलावा ड्राइविंग, पढ़ना और घूमना मुझे अच्छा लगता है. मुझे अपने घर को सजाना पसंद है और डांस करने का भी शौक है. जब मैं फिल्मों में काम नहीं करती थी तब खूब स्टेज शो करती थी. मैं ने देशविदेश में बड़ेबड़े स्टेज शो और फैशन शो किए हैं.

मुझे लगता है कि हर लड़की को खुद पर यकीन होना चाहिए. लड़कियां जो भी काम करें मजबूत इरादे के साथ करें. समाज हमारे इसी यकीन की कद्र करता है.

VIDEO : प्री वेडिंग फोटोशूट मेकअप

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.