सरिता विशेष

लगभग एक वर्ष हो गया, मगर संजय दत्त के अभिनय करियर की दूसरी पारी शुरू होने का नाम ही नहीं ले रही है. संजय दत्त के सारे प्रयास विफल हो गए. संजय दत्त के सभी दोस्तों ने उनको लेकर फिल्मों की घोषणाएं करने के बाद अपने अपने कदम पीछे खींच चुके हैं. करीबन आठ फिल्में हमेशा के लिए डिब्बे में बंद हो चुकी हैं. ऐसे मुकाम पर फिल्म ‘‘मैरी काम’’ के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार जीत चुके निर्देशक उमंग कुमार ने संदीप सिंह व टीसीरीज के भूषण के साथ मिलकर संजय दत्त के करियर की दूसरी पारी की शुरुआत करा संजय दत्त के अभिनय करियर की नैय्या को पार लगाने का बीड़ा उठाया है. यह पहला मौका होगा, जब संजय दत्त, उमंग कुमार के निर्देशन में अभिनय करेंगे.

जी हां! ‘‘टीसीरीज’’ और ‘‘लीजेंड स्टूडियो’’ द्वारा निर्मित की जाने वाली फिल्म ‘‘भूमि’’ का निर्देशन उमंग कुमार करेंगे, जिसमें संजय दत्त की मुख्य भूमिका होगी.

इस फिल्म को लेकर संजय दत्त काफी उत्साहित हैं. वह कहते हैं-‘‘मुझे ऐसी पटकथा की तलाश थी, जो कि मेरे सिनेमाई परदे के व्यक्तित्व से परे हो. मैं एक ऐसा सशक्त किरदार निभाना चाहता था, जिसे मैंने आज तक न निभाया हो. जब मेरे पास फिल्म ‘भूमि’ की पटकथा आयी, तो इसे पढ़ने के बाद मेरे अंतर्मन से आवाज आयी कि मुझे इसी की तलाश थी. एक पिता व उसकी पुत्री के बीच के रिश्ते को उकेरने वाली यह एक अति भावना प्रधान व संजीदा फिल्म है.’’

जबकि ‘‘भूमि’’ का निर्देशन करने वाले उमंग कुमार कहते हैं-‘‘यह एक ऐसी फिल्म है, जो कि दर्शकों को उनकी सीट पर बांध कर रखेगी. इस फिल्म में संजय दत्त के अभिनय का वह रूप नजर आएगा, जिसे अब तक किसी ने नहीं देखा है. यह एक भावना प्रधान मगर बदले की अति नाटकीय कहानी है. जो कि पिता व पुत्री के रिश्तों पर एक नई रोशनी डालेगी.’’

टीसीरीज के मालिक व फिल्म ‘‘भूमि’’ के निर्माण से जुड़े भूषण कुमार भी इस फिल्म को लेकर काफी उत्साहित हैं. जबकि फिल्म के अन्य निर्माता संदीप सिंह तो इस बात को लेकर कृतज्ञ हैं कि संजय दत्त ने उनकी इस फिल्म में अभिनय करने के लिए हामी भर दी. संदीप सिंह कहते हैं-‘‘इस फिल्म की पटकथा पढ़ते ही जिस तरह से संजय दत्त उत्साहित हुए, उसी ने हमें इस फिल्म के निर्माण काम को आगे बढ़ाने के लिए प्रेरित किया. हम इस बात से उत्साहित हैं कि संजय दत्त हमारी फिल्म ‘भूमि’ से अपने अभिनय करियर की वापसी करने वाले हैं.’’