सरिता विशेष

सात अक्टूबर को राकेश ओमप्रकाश मेहरा निर्देशित फिल्म ‘‘मिर्जिया’’ प्रदर्शित होने वाली है, जिसमें हर्षवर्धन कपूर ने मुख्य भूमिका निभाई है. तो वहीं वह अब विक्रमादित्य मोटावणे की फिल्म ‘‘भावेष जोशी’’ की भी शूटिंग शुरू कर चुके हैं. जबकि हकीकत यह है कि हर्षवर्धन कपूर ‘‘मिर्जिया’’ और ‘‘भावेष जोशी’’ दोनों फिल्में एक एक बार करने से इंकार कर चुके थे.

हाल ही में हर्षवर्धन कपूर से जब हमने फिल्म‘‘मिर्जिया’’ को लेकर लंबी बातचीत की, उस वक्त उनसे जो बाते हुई, उससे ‘‘मिर्जिया’’ और ‘‘भावेष जोशी’’ के बीच वह किस तरह झूलते रहे, उसकी कहानी जो खुलकर सामने आयी है, वह इस प्रकार हैः

राकेश ओमप्रकाश निर्देशित फिल्म ‘‘दिल्ली 6’’ की दिल्ली में शूटिंग चल रही थी. जिस दिन इस फिल्म की नायिका और हर्षवर्धन कपूर की बहन सोनम कपूर इस फिल्म के लिए रामलीला वाले सीन की शूटिंग कर रही थीं, उसी दिन हर्षवर्धन कपूर अपनी बहन से मिलने सेट पर पहुंच गए थे. उन्हे देखते ही राकेश ओम प्रकाश मेहरा ने उनके सामने अपनी फिल्म ‘‘मिर्जिया’’ का प्रस्ताव रखा था, जिसे उस वक्त हर्षवर्धन ने यह कहकर ठुकरा दिया था कि वह अभी तैयार नहीं है. वैसे उस वक्त तक फिल्म की पटकथा पूरी नहीं हुई थी और गुलजार फिल्म की पटकथा लिखने में व्यस्त थे. उसके बाद हर्षवर्धन अमेरिका चले गए. वहां पर उन्होंने चार वर्ष फिल्म पटकथा लेखन व एक साल अभिनय का प्रशिक्षण हासिल किया. उसके बाद जब हर्षवर्धन वापस मुंबई आए, तो वह 22 वर्ष के हो चुके थे. तब उन्हे सबसे पहले विक्रमादित्य मोटावणे ने फिल्म ‘‘भावेष जोशी’’ का आफर दिया था. हर्षवर्धन को फिल्म की पटकथा पसंद आयी थी, मगर उन्हे लगा कि वह किरदार में फिट नही बैठते हैं. इसलिए इंकार कर दिया था.

खुद हर्षवर्धन कहते हैं-‘‘मुझसे ‘दिल्ली 6’ के समय चर्चा हुई थी, तो मैने कहा था कि मैं तैयार नहीं हूं. क्योंकि उस वक्त मैं पढ़ाई कर रहा था. मैंने राकेश सर से कहा था कि मैं इतनी बड़ी जिम्मेदारी अभी निभा नहीं पाउंगा. राकेश सर अपने स्टिंक्ट पर भरोसा करते हैं. अगर उन्हे अंदर से अच्छा लगता है, तो वह उस पर कायम रहते हैं. उस दिन मुझे देखकर उनके दिल की आवाज ने कहा था कि यही लड़का मिर्जा के किरदार को निभा सकता है. जिसकी सोच से उनकी सोच मिलती है, उससे वह हटते नहीं है.’’

इस बीच राकेश ओमप्रकाश मेहरा ‘दिल्ली 6’ के बाद फिल्म ‘‘भाग मिल्खा भाग’’ पूरी कर चुके थे. इस फिल्म के शो के दौरान राकेश ओम प्रकाश मेहरा और हषवर्धन कपूर जब आमने सामने हुए, तो एक बार फिर राकेश ओम प्रकाशस मेहरा ने उनके सामने ‘मिर्जिया’ का प्रस्ताव रख दिया. इस बार हर्षवर्धन कपूर ने इसे स्वीकार कर लिया.

हर्षवर्धन कपूर कहते हैं-‘‘जब अमरीका से वापस आया, तो मेरे अंदर पटकथा की समझ विकसित हो चुकी थी. मुझे लगा कि अब मैं देख सकता हूं कि राकेश सर ने मुझे इसके लिए क्यों चुना और मुझे लगा कि मैं इस किरदार को निभा सकता हूं. मुझमें और आदिल में थोड़ी बहुत समानता है. आदिल ज्यादा बोलता नहीं है. बहुत संजीदा इंसान है. मेरा जो लुक है, वह भी इस फिल्म के काफी करीब है.’’

हर्षवर्धन कपूर को ‘मिर्जिया’ के लिए निर्देशक राकेष ओमप्रकाश मेहरा के निर्देश पर पूरे 18 माह तक खास तरह का प्रशिक्षण हासिल करना पड़ा. उसके बाद फिल्म की शूटिंग में वक्त लगा. इस बीच साढ़े तीन वर्ष का वक्त गुजर गया. ‘मिर्जिया’ की शूटिंग पूरी होने के बाद जब पुनः हर्षवर्धन को फिल्म ‘‘भावेष जोशी’’ का आफर मिला, तो उन्होंने इससे जुड़ने का फैसला कर लिया. इस बीच फिल्म की पटकथा बदल चुकी थी. हषवर्धन कपूर फिल्म ‘भावेष जोषीशी’ के लिए भी कुछ दिन शूटिंग कर चुके हैं. फिलहाल वह अपनी पहली फिल्म ‘मिर्जिया’ के प्रमोशन में व्यस्त हैं.